रो रही है शहीदों की आत्माएं, हमने किन नालायकों के हाथ में उत्तराखंड राज्य सौंप दिया है: हरक सिंह

कार्यक्रम के शुभारम्भ सीटू के प्रांतीय अध्यक्ष कामरेड वीरेन्द्र भंडारी के आकस्मिक निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित कर कि गई वही वीरेन्द्र भंडारी की धर्मपत्नी को शाल और मोमेंटो देकर सम्मानित किया

रो रही है शहीदों की आत्माएं, हमने किन नालायकों के हाथ में उत्तराखंड राज्य सौंप दिया है: हरक सिंह

प्रदेश की राजनीति में हमेशा से सुर्खियों और चर्चाओं में रहने वाले मंत्री हरक सिंह रावत बीते मंगलवार को मसूरी पहुंचे जहाँ उन्होंने ने कार्यक्रम के शुभारम्भ सीटू के प्रांतीय अध्यक्ष कामरेड वीरेन्द्र भंडारी के आकस्मिक निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित कर कि गई वही वीरेन्द्र भंडारी की धर्मपत्नी को शाल और मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया। वही इस कार्यकर्म के दौरान जब हरक सिंह बोलने पर तो ना जाने क्या क्या बोल गए है उन्होंने कहा आज उत्तराखंड के आंदोलनकारी शहीदों की आत्माएं रो रही है और उनकी आत्माएं कह रही होंगी कि आज हमने किन नालायकों के हाथ में उत्तराखंड राज्य सौंप दिया है मंत्री हरक सिंह के इस बयान के राजनीतिक गलियारों में खूब सियासी मायने निकाले जा रहे हैं हालांकि कुछ लोग इस बयान पर चुटकी भी ले रहे हैं क्योंकि जिस अंदाज में मंत्री का यह बयान वायरल हो रहा है उससे साफ स्पष्ट हो रहा है कि उनका निशाना तो भाजपा पर ही है हालांकि दल बदल के तौर पर अहम भूमिका निभाने में माहिर हरक सिंह 2022 चुनाव में किस करवट बैठते है यह तो समय ही बताएगा। 

बिजली के तार होंगे अंडरग्राउंड 

हालाकिं उन्होंने उत्तराखण्ड में पर्यटन, तीर्थाटन, पलायन, स्वरोजगार एवं वन कानून’ विषय पर गोष्ठी में वक्ताओं ने अपने विचार रखे । वक्ताओं ने प्रदेश में नए ईको टूरिज्म और पर्यटन स्थलों को बढ़ावा देने व विकास के लिए पर्वतीय राज्यों के अनुकूल वन नीति बनाने के लिए वन अधिनियम 1980 में आवश्यक संशोधन करने की मांग रखी । साथ ही उन्होंने कहा मसूरी के विकास को मद्देनजर रखते हुए कहा की जल्द मसूरी बिजली के तार अंडरग्राउंड होंगे साथ कई मसूरी के कई ऐसे है क्षेत्र है जिन्हे विकसित करने को लेकर योजना बनाई जा रही है। जल्द मसूरी में श्रम कार्ड के लिए मसूरी में कैंप लगाएं जाएंगे। 

पेड़ों का नुकसान किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा 

उन्होंने कहा कि मसूरी और आसपास के क्षेत्रों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है । वही शिफन कोर्ट से बेघर हुए लोगों को विस्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने घोषणा की है और सरकार उस दिशा में लगातार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि विकास के लिए कई बार पेड़ को काटे जाने के निर्देश नियमों के अनुसार दिए जाते है लेकिन अगर कोई भूमाफिया बेवजह पेड़ों और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाएगा तो उसको किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा । मसूरी भिलाडू स्टेडियम निर्माण में वन विभाग की ओर से आपत्ति दर्ज की जा रही है जिसका जल्द निराकरण किया जाएगा। 

मसूरी ने लोग अपना घर नहीं बना पा रहे है 

वही कैंपा योजना के तहत वन मोटर मार्ग के रूप में वन क्षेत्र में आ रहे हैं जगह का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कैंपा योजना के तहत केंपटी फॉल को विकसित किया जाएगा जिससे कि केंपटी फॉल पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बन सके। हरक सिंह रावत ने  कहा कि अति शीघ्र मसूरी में वन भूमि का सर्वे पूरा कर दिया जाएगा ताकि मसूरी वासियों को वन टाइम सेटलमेंट योजना का लाभ तत्काल मिल सकें । वक्ताओं ने कहा कि अव्यवहारिक वन कानूनों के कारण मसूरी में लोग अपनी ज़मीन में एक छोटा सा घर नहीं बना पा रहे हैं । वन टाईम सेटलमेंट का लाभ नहीं ले पा रहे हैं। वही कैबिनेट मंत्री डा. हरक सिंह रावत को मसूरी विधानसभा से चुनाव लड़ने के लिए आमंत्रित किया गया वह चुनाव में पूरा सहयोग करने की भी बात कही।