उपराष्ट्रपति चुनाव जारी, जगदीप धनखड़ सबसे आगे

बंगाल के पूर्व राज्यपाल जगदीप धनखड़ समर्थन के हिसाब से 527 वोटों की उम्मीद कर सकते हैं, जो जीतने के लिए आवश्यक 372 वोटों से कहीं अधिक है।

उपराष्ट्रपति चुनाव जारी, जगदीप धनखड़ सबसे आगे
संसद भवन में उपराष्ट्रपति का चुनाव चल रहा है और आज शाम 5 बजे तक चलेगा। परिणाम शाम तक आने की संभावना है। पोलिंग बूथ खुलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र ने वोट डाला.


जगदीप धनखड़ - बंगाल के पूर्व राज्यपाल के रूप में अपनी भूमिका के लिए जाने जाते हैं - 527 वोटों की उम्मीद कर सकते हैं, जो जीतने के लिए आवश्यक 372 से कहीं अधिक है। यह यह कुल मतों का 70 प्रतिशत हो सकता है, जो एम वेंकैया नायडू को मिले मतों से दो प्रतिशत अधिक है।


इलेक्टोरल कॉलेज में 780 सांसद शामिल हैं - लोकसभा में 543 और राज्यसभा में 245। उच्च सदन की आठ खाली सीटों और तृणमूल कांग्रेस के 36 सांसदों, जिन्होंने मतदान से दूर रहने का फैसला किया, को छोड़कर, 744 सांसदों के मतदान की उम्मीद है।


एनडीए के 441 सांसद हैं, जिसमें बीजेपी के 394 सांसद हैं. पांच मनोनीत सदस्य भी एनडीए उम्मीदवार का समर्थन कर रहे हैं।


धनखड़ को कई अन्य गैर-एनडीए दलों जैसे नवीन पटनायक के बीजू जनता दल, जगनमोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस, मायावती की बहुजन समाज पार्टी, चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देशम पार्टी, अकाली दल और शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट का भी समर्थन प्राप्त है। कुल मिलाकर उनके पास 81 सांसद हैं।


समर्थन के हिसाब से मार्गरेट अल्वा 26 फीसदी वोट (करीब 200) की उम्मीद कर सकती हैं। उन्हें कांग्रेस, एमके स्टालिन की डीएमके, लालू यादव की राष्ट्रीय जनता दल, शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और वाम दलों का समर्थन प्राप्त है।


इसके अलावा, झारखंड मुक्ति मोर्चा, तेलंगाना राष्ट्र समिति, आम आदमी पार्टी और शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट के नौ सांसद भी अल्वा का समर्थन कर रहे हैं।


पिछले चुनाव में विपक्ष के उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी को 32 फीसदी वोट मिले थे. शुक्रवार को धनखड़ ने दिल्ली में भाजपा सांसदों के साथ एक बैठक में भाग लिया, जहां एक डमी मतदान आयोजित किया गया था।


एकल संक्रमणीय मत द्वारा आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के तहत, निर्वाचक को उम्मीदवारों के नामों के सामने वरीयताएँ अंकित करनी होती हैं।