नौकरी का झांसा देकर देते थे फर्जी नियुक्ति पत्र, 'केरी कंसल्टेंट्स के नाम से चल रही थी फर्जी कंपनी

उत्तराखंड स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) द्वारा फर्जी प्लेसमेंट एजेंसी चलाने के आरोप में देहरादून में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

नौकरी का झांसा देकर देते थे फर्जी नियुक्ति  पत्र, 'केरी कंसल्टेंट्स के नाम से चल रही थी फर्जी कंपनी

उत्तराखंड स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) द्वारा फर्जी प्लेसमेंट एजेंसी चलाने के आरोप में देहरादून में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. गिरोह के सरगना ने अपने ग्राहकों को विदेशों में नौकरी दिलाने का वादा करते थे। गिरोह के राजपुर रोड कार्यालय से एसटीएफ की टीम ने 36 पासपोर्ट, 35 फर्जी चयन पत्र और 15 मेडिकल रिपोर्ट जब्त की है। गिरफ्तार आरोपी पिछले एक महीने से 'केरी कंसल्टेंट्स' के नाम से फर्जी कंपनी चला रहा था। एसटीएफ के अधिकारियों ने कहा कि वे चंडीगढ़ में एक आव्रजन सेवा भी चला रहे थे।

देता था फर्जी नियुक्ति पत्र 

गिरफ्तार गिरोह के सदस्यों की पहचान सिरसा हरियाणा के मूल निवासी राम शर्मा के रूप में हुई है। फर्जी दस्तावेजों पर लोगों को विदेश भेजने के आरोप में पूर्व में गिरफ्तार बठिंडा निवासी प्रदीप कुमार; और पंजाब के रूपनगर से सीमा शुक्ला के रूप में हुई है। वही यह नौकरी के नाम पर फर्जी गिरोह पीड़ितों को सिंगापुर की स्टैमफोर्ड कंपनी में नौकरी दिलाने का वादा करता था और उनसे कई लाख रुपये वसूल करता था। यह गिरोह पैसे लेने के बाद पीड़ितों को फर्जी चयन प्रमाण पत्र और नियुक्ति पत्र देता था।

45 दिनों से गिरोह था देहरादून में 

गिरोह ने चंडीगढ़ में एक फर्जी प्लेसमेंट एजेंसी, रेफोर्ड इमिग्रेशन सर्विसेज के जरिए हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश में कई लोगों को ठगा। एसटीएफ निरीक्षक अबुल कलाम ने कहा कि यह गिरोह देहरादून में पिछले 45 दिनों से सक्रिय था और लगातार नजर रख रहा था।