आयुष्मान भारत मिशन के तहत 22.4 लाख उत्तराखंडवासियों के पास है डिजिटल हेल्थ आईडी

उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग ने नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत 22.44 लाख लोगों को डिजिटल स्वास्थ्य पहचान पत्र जारी किए हैं

आयुष्मान भारत मिशन के तहत 22.4 लाख उत्तराखंडवासियों के पास है डिजिटल हेल्थ आईडी
उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग ने नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत 22.44 लाख लोगों को डिजिटल स्वास्थ्य पहचान पत्र जारी किए हैं। डिजिटलाइजेशन योजना भारत सरकार द्वारा 2021 में शुरू की गई थी। आईडी कार्ड में 14 अंकों का आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खाता (ABHA) नंबर होता है जो उपयोगकर्ताओं को अपने स्वास्थ्य रिकॉर्ड और चिकित्सा जांच को ऑनलाइन सहेजने की अनुमति देता है। इस स्वास्थ्य खाते में परीक्षण, बीमारियों, डॉक्टरों का दौरा, निर्धारित दवाएं और निदान का विवरण होता है। 

ABHA धारकों के स्वास्थ्य डेटा को स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के साथ ऑनलाइन एक्सेस और साझा किया जा सकता है, जिससे उपयोगकर्ताओं के लिए दूर से ही स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं का लाभ उठाना आसान हो जाता है। यह उन मामलों में भी उपयोगी हो सकता है जहां एक मरीज एक नए शहर में शिफ्ट हो जाता है। योजना के तहत 913 चिकित्सा पेशेवरों और 130 स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं को पंजीकृत किया गया है। उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अरुणेंद्र चौहान ने कहा हम एक डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र बनाकर राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत कर रहे हैं। 

स्वास्थ्य कार्ड धारकों को एक क्लिक पर उनके उपचार, नैदानिक ​​सेवाओं और चिकित्सा इतिहास की जानकारी मिल जाएगी। डिजिटल कार्ड हमें उन बीमारियों के बारे में बताएगा जो हमारे राज्य में अधिक प्रचलित हैं और उसी के अनुसार, हम अपनी स्वास्थ्य नीति तैयार करेंगे।