IIT-रुड़की की स्थापना को चिह्नित करने के लिए केंद्र सरकार 175 रुपये का सिक्का जारी करेगी

सिक्कों के संग्रहकर्ता सुधीर लुणावत के मुताबिक देश में पहली बार जारी होने वाले 175 रुपए के सिक्के का वजन 35 ग्राम होगा।

IIT-रुड़की की स्थापना को चिह्नित करने के लिए केंद्र सरकार 175 रुपये का सिक्का जारी करेगी

उत्तराखंड के रुड़की में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान(IIT) की स्थापना की 175वीं वर्षगांठ के अवसर पर केंद्र सरकार 175 रुपये का एक विशेष सिक्का जारी करेगी।175 रुपये के सिक्कों का अध्ययन करने वाले सुधीर लुनावत ने दी यह जानकारी|

सिक्कों के संग्रहकर्ता सुधीर लुणावत के मुताबिक देश में पहली बार जारी होने वाले 175 रुपए के सिक्के का वजन 35 ग्राम होगा। इसमें 50 फीसदी चांदी, 40 फीसदी तांबा और 5-5 फीसदी निकल, जस्ते का मिश्रण होगा।

इसकी गोलाई 44 मिलीमीटर होगी। सिक्के के मुख्य भाग पर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की उत्तराखंड के मुख्य प्रशासनिक भवन (जेम्स थॉमस इमारत) का फोटो होगा। फोटो के नीचे मध्य भाग में 175 वर्ष लिखा होगा। इमारत की ऊपरी परिधि में हिंदी, जबकि निचली परिधि में अंग्रेजी में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान लिखा होगा। इमारत के नीचे दाईं तरफ 1847 और बाईं तरफ 2022 लिखा होगा। सिक्के की दूसरी तरफ अशोक स्तंभ के नीचे सत्यमेव जयते के साथ 175 लिखा होगा।

 

पहले भी जारी हुए स्मारक सिक्के

सुधीर के मुताबिक सिक्के का निर्माण भारत सरकार की मुंबई टकसाल में होगा। इससे पहले भी विभिन्न मौकों पर सरकार 60, 75, 125, 150, 250, 350, 400, 500, 550 और हजार रुपए के स्मारक सिक्के जारी कर चुकी है।

इससे पहले भी लॉन्च हुआ था 100 रुपए का सिक्का

साल 2017 में तमिलनाडु के सुपरस्टार और पूर्व मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन के जन्म शताब्दी के अवसर पर भी केंद्र सरकार ने 100 रुपए का सिक्का जारी किया था। साल 2016 में महाराणा प्रताप की 476वीं जयंती पर भी 100 रुपए का सिक्का जारी किया गया था।

नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किए गए स्मारक सिक्कों के एक ओर भारत का प्रतीक चिह्न बना है।इस पर अशोक स्तंभ और इसके नीचे देवनागिरी लिपी में सत्यमेव जयते अंकित है। सिक्के पर देवनागिरी लिपी में भारत और रोमन अक्षरों में इंडिया लिखा है। प्रतीक चिह्न के नीचे सिक्के का मूल्य 100 अंकित है। वहीं सिक्के के दूसरी तरफ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तस्वीर और देवनागिरी और रोमन लिपि में उनका नाम लिखा गया है। उनके जन्म और निधन का साल 1924-2018 भी इस पर अंकित है।

ये है अब तक का सबसे महंगा सिक्का

सरकार का अब तक का सबसे महंगा सिक्का 1000 रुपए का था। इस सिक्के को तमिलनाडु के मशहूर और अति प्राचीन बृहदीश्वरा मंदिर के निर्माण के 1000 साल पूरे होने जारी किया गया था।