सदन मे समय नही, संतोष जनक जबाब जरूरी : चौहान

सदन मे विपक्ष के द्वारा पूछे गए सभी सवालों पर सरकार ने साफगोई से पक्ष रखा और हर सवाल का जवाब भी दिया है। 

सदन मे समय  नही, संतोष जनक जबाब जरूरी : चौहान


भाजपा ने कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य द्वारा कम समय अवधि मे सत्र समाप्त करने को लेकर दिये बयान पर प्रतिक्रिया देते  हुए कहा कि सवालों के संतोषजनक उत्तर पर कांग्रेस सवाल उठाती तो बेहतर होता। पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने कहा कि सदन मे विपक्ष के द्वारा पूछे गए सभी सवालों पर सरकार ने साफगोई से पक्ष रखा और हर सवाल का जवाब भी दिया है। 


उन्होंने कहा कि सदन मे राज्य हित मे बेहतर निर्णय भी लिए गए, लेकिन कांग्रेस उन निर्णयों पर कुछ कहने से बचने के लिए समय का रोना रो रही है। इसमे महिला क्षेतिज आरक्षण और धार्मिक स्वतंत्रता सहित कई विधेयक पास हुए जो की ऐतिहासिक है। चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने कुछ समय से जो नकारात्मक वातावरण बनाया था और सरकार को घेरने का दावा तक किया, लेकिन उसके दावों की हवा निकल गयी। 


सत्र मे सभी सवालों के जवाब सरकार ने दिये, इसलिए इसकी अवधि को लेकर सवाल भी तर्कहीन है। जब सभी सवालों का जवाब विपक्ष को मिले तो सदन को अधिक समय तक चलाने के विपक्ष की  मांग का औचित्य भी गलत है। कांग्रेस चाहे कितने सवाल करे, लेकिन इस बार शीतकालीन सत्र कई ऐतिहासिक विधेयकों के लिए याद रखा जायेगा। सदन मे बिखराव और असफलता के लिए कांग्रेस अब सरकार पर दोष मढ़ने की फिराक मे है। 


कांग्रेस विधायक सदन मे अनियंत्रित और बिखराव की स्थिति मे थे और अब हाई कमान और वरिष्ठ नेताओ के निशाने पर आने से मुद्दे भटकाने की कोशिश कर रही है। चौहान ने कहा की नेता प्रतिपक्ष पूर्व मे विस अध्यक्ष रहे है और व्यवस्था को बेहतर जानते है। 


उनके कार्यकाल या कांग्रेस सरकार मे बेशक, सवालों से भागने के लिए ऐसा होता रहा होगा। लेकिन इस बार सत्र मे ऐसा नही हुआ और सभी सवालों के संतोषजनक जवाब दिये गए। साथ ही चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सरकार कहने में नहीं काम करने विश्वास करती है और सरकार की इसी नीति के कारण इस विधानसभा सत्र में ऐतिहासिक विधेयक पारित किए गए । ऐसे मे कांग्रेस के आरोप सरासर निराधार और अपनी झेंप मिटाने वाले है।