गुलजार हुई फूलों की घाटी, देश विदेश से पहुंचे पर्यटक

विश्व धरोहर फूलों की घाटी खुलने के बाद से पर्यटको के पंहुचने का क्रम लगातार जारी है। इन दिनो प्रतिदिन डेढ सौ से अधिक पर्यटक घाटी पंहुच रहे है।

गुलजार हुई फूलों की घाटी, देश विदेश से पहुंचे पर्यटक

विश्व धरोहर फूलों की घाटी खुलने के बाद से पर्यटको के पंहुचने का क्रम लगातार जारी है। इन दिनो प्रतिदिन डेढ सौ से अधिक पर्यटक घाटी पंहुच रहे है। वन विभाग को भी पर्यटको के माध्यम से शुल्क के रूप मे अच्छी आय हो रही है। फूलों की घाटी इस वर्ष 1जुलाई को पर्यटको के लिए खोली गई थी,तब से देश भर कि विभिन्न राज्यों के साथ ही विदेशी पर्यटको के पंहुचने का सिलसिला लगातार जारी है। हेमकुंड साहिब-लक्ष्मण मंन्दिर के कपाट नही खुलने के वावजूद भ्यूॅडार वैली मे प्रकृति प्रेमी पर्यटको के आवागमन से रौनक लौट आई है। फूलों की घाटी के मुख्य पडाव घाॅघरियाॅ मे होटल,रेस्टोरेंन्ट व ढाबे पूर्ण रूप से खुले है, तो वन महकमा भी पूरी चैकसी के साथ घाटी मे मौजूद है।

विश्व धरोहर फूलों की घाटी इन दिनों पूरे यौवन पर है, यहाॅ इन दिनों प्रीमूला, पोंटेन्टिला, ब्लू पाॅपी, मोरीनालोंगीफूलिया, रोज मोस्यारा, व कोबरा चिल्ली सहित अनेक किस्मो की फूल खिलें है।, प्रकृति प्रेमी पर्यटक घाटी की सैर के दौरान सैकडो के किस्म के फूलों के साथ तस्वीर खिंचाने के अलावा घाटी की खूबसूरत हसीन वादियों को अपने कैमरे मे कैद कर संजो रहे है। घाटी मे पंहुचने वाले पर्यटको मे पंजाब, हरियाणा,राजस्थान, दिल्ली, मुबंई व वैगंलौर आदि प्रदेशो के है।

नंडादेवी नेशनल पार्क  के डी एफ ओ के अनुसार 1जुलाई को घाटी खुलने के बाद से अब तक 1560 पर्यटक घाटी की सैर कर चुके।जिससे नंदा देवी नेशनल पार्क को  पौने दो लाख का राजस्व प्राप्त हुआ है। है, जिनमे दो अफगानिस्तान व एक नेपाल का पर्यटक भी शामिल है। उन्होने जानकारी दी कि वन विभाग घाटी मे प्रवेश के लिए प्रवेश शुल्क के रूप मे भारतीय पर्यटक से 150 रूपया प्रति पर्यटक तथा विदेशी पर्यटक से 6सौं रूपया शुल्क लेता है। और एक जुलाई से अब तक पर्यटको से वन विभाग को ढाई लाख से अधिक का राजस्व प्राप्त हुआ है।

पर्यटन अधिकारी बृजेश पांडेय ने बताया कि कोविड महामारी के कारण इस बार भी फूलों की घाटी को एक महीने बाद खोली गई, घाटी प्रतिवर्ष 1जून को खोल दी जाती रही है, लेकिन दो वर्षो से कोरोना महामारी के कारण घाटी को देर से खोला जा रहा है, गत वर्ष 15अगस्त को घाटी पर्यटको के लिए खोली गई थी, और अक्टूबर महीने तक 945 पर्यटक ही घाटी पंहुच सके थे। इस बार 1जुलाई को खोले जाने से 32 दिनों मे पर्यटको का आंकडा 2000 तक पंहुच गया है। अभी तक प्रर्यटन विभाग को तीन लाख रुपये का राजस्व प्राप्त हो गया है।
बाइट।