विधि विधान से दिवगंत महंत नरेंद्र गिरि को दी गई समाधि, संगम पर उमड़ा जनसैलाब

उत्तराखंड से लेकर पुरे उत्तर प्रदेश में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि मौत से हाहाकार मचा हुआ है वही डॉक्टरों ने लगभग दो घंटे तक महंत नरेंद्र गिरि का पोस्टमार्टम किया

विधि विधान से दिवगंत महंत नरेंद्र गिरि को दी गई समाधि, संगम पर उमड़ा जनसैलाब

उत्तराखंड से लेकर पुरे उत्तर प्रदेश में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि मौत से हाहाकार मचा हुआ है वही डॉक्टरों ने लगभग दो घंटे तक महंत नरेंद्र गिरि का पोस्टमार्टम किया। हालाकिं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दम घुटने मौत की पुष्टि की गई है। दिवगंत महंत नरेंद्र जी के शव को पहले संगम में स्नान करवाया गया उसके उपरांत उन्हें मठ ले जाया गया।  बाघंबरी मठ से संगम यात्रा तक भक्तों और साधु संतों की भीड़ उमड़ पड़ी। देश के विभिन्न महामंडलेश्वर और 13 अखाड़ों के साधु संत प्रयागराज पहुंचे उन्होंने महंत नरेंद्र जी के अंतिम दर्शन किए इसके बाद उनके पार्थिव शरीर को समाधि दी गई। समाधि प्रक्रिया उनके उत्तराधिकारी बलवीर गिरि ने अपने हाथों से संपन्न की। 

श्रद्धालुओं से पटा रहा संगम 

समाधि पूरी विधि विधान के साथ दी गई। पार्थिव शरीर पर गुलाब जल छिड़का गया उनपर पुष्प चढ़ाए गए वही पुरे मंत्रो उच्चारण का सिलसिला चलता रहा। संगम का माहौल यह रहा की पुरे श्रद्धालुओं से पटा रहा। इस दौरान पुलिस बल मौजूद रही कई जगह धक्का मुक्की की स्तिथि भी बनी। महंत की अंतिम यात्रा में चल रहे केशव प्रसाद मौर्या ने कहा की दिवगंत महंत नरेंद्र गिरि की मौत आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या है और ऐसा करने वाला बचेगा नहीं जिसने आत्महत्या करने को मजबूर किया है वो भी किसी दशा में नहीं बचेगा। उन्होंने आगे बोलने से मना कर दिया उन्होंने कहा अभी मामला जाँच के दायरे में है इसलिए अभी वह कुछ नहीं बोलना चाहते। 

नरेंद्र गिरी की हत्या हुआ है हत्या: चिन्मयानंद

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत पर पूर्व केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद ने बड़ा बयान दिया है। चिन्मयानंद ने महेंत नरेंद्र गिरी की मौत को हत्या बताया है। वहीं उन्होंने कहा है कि अखाड़ा परिषद की संपत्ति को लेकर एक राजनीतिक दल विशेष के लोगों ने नरेंद्र गिरी की हत्या की है। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि योगी को असफल साबित करने के लिए संतो के खिलाफ लगातार एक विशेष दल साजिशें कर रहा है। 

संत समाज में मे भी नाराजगी है

चिन्मयानंद ने यह भी कहा कि जैसे लगातार संतों पर आरोप लग रहे है अत्याचार और संतो की हत्याएं हो रही है, जिससे देश भर के संत समाज में मे भी नाराजगी है। नरेंद्र गिरी की हत्या से संत समाज को काफी क्षति पहुंची है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में जब  संतो की रक्षा नही हो सकती तो प्रदेश की रक्षा कैसे होगी। वहीं चिन्मयानंद ने योगी आदित्यनाथ से मांग की है कि नरेंद्र गिरी की मौत की उच्च स्तरीय जुडिशरी जांच होनी चाहिए। 


हत्या करने बाले षड्यंत्र कर रहे हैं

उन्होंने ये भी कहा योगी सरकार जिस तरीके से भूमाफियाओं, गुंडो और अपराधियों के खिलाफ अभियान चला रही , उसी तरीके से साधु संतों के खिलाफ जो बदनाम और उनकी हत्या करने बाले षड्यंत्र कर रहे हैं उनके खिलाफ भी अभियान चलाकर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि महंत आनंद गिरी को इस हत्या के षड्यंत्र में फसाया जा रहा है जोकि आनंद गिरि निर्दोष है।