देहरादून से हरिद्वार जाने वाली ट्रेनों की बोगियों के नहीं खुलेंगे दरवाजे, जाने क्या है वजह

अगर ट्रेन से देहरादून जा रहे है तो सतर्क हो जाए क्यूंकि आपके साथ शायद जंगल में रहने वाले जंगली जानवर भी यात्रा कर सकते है

देहरादून से हरिद्वार जाने वाली ट्रेनों की बोगियों के नहीं खुलेंगे दरवाजे, जाने क्या है वजह

अगर ट्रेन से देहरादून जा रहे है तो सतर्क हो जाए क्यूंकि आपके साथ शायद जंगल में रहने वाले जंगली जानवर भी यात्रा कर सकते है। वही देहरादून के प्रसिद्ध राजा जी नेशनल पार्क प्रबंधन ने पहले से अवगत करा दिया है की पार्क से गुजरने वाली ट्रेन के दरवाजे बंद रखे साथ रेलवेलाइन की देखरेख में कर्मचारी अलर्ट रहे। बता दे की रेल मार्ग अधिकांश राजा जी पार्क से होकर गुजरता है। जिसके चलते इस बात का डर बना हुआ है की किसी कारणों से ट्रेन रूकती है तो बोगी का दरवाजा खोलने की जेहमत न करे वर्ण यात्रीगण बाघों का या अन्य किसी जंगली जानवरों का शिकार हो सकते है। 


बता दे की कुछ साल तक रेल लाइन तक हाथी पहुंच जाते थे और ट्रेन की चपेट में आने से उनकी दर्दनाक मौत हो जाती थी। इसलिए राजाजी नेशनल पार्क के बीच ट्रेनें 35 किलो मीटर प्रतिघंटेे की रफ्तार से गुजरती हैंं। जैसा की सामने आया है उत्तराखंड बाघों की संख्या में बढ़ोत्तरी कर रहा है ऐसे में पार्क प्रबंधन ने क्षेत्र से गुजरने वाली ट्रेनों को कोच के दरवाजे बंद रखने की हिदायत दी है। 


शताब्दी में विस्टाडोम कोच लगाने की योजनाः पार्क क्षेत्र से गुजरने वाली ट्रेनों में सवार यात्री को कभी कोई जानवर दिखाई दे सकता है। रेल प्रशासन ने नई दिल्ली से देहरादून जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में एक विस्टाडोम कोच लगाने की योजना बनाई है। इस कोच की छत व बाडी पारदर्शी बनाई गई है। कोच की सीट को चारों ओर घुमाने की व्यवस्था होती है। ट्रेन के पार्क से गुजरने के समय यात्री प्राकृतिक नजारे के साथ वन्यजीव को देख सकते हैं इसी तरह से नई दिल्ली से काठगोदाम जाने वाली शताब्दी में भी विस्टाडोम कोच लगाने की योजना है। 

देहरादून हरिद्वार रेल मार्ग दोहरीकरण पर ग्रहणः देहरादून हरिद्वार के बीच दोहरी रेल मार्ग का उत्तर रेलवे मुख्यालय ने सर्वे करा चुका है। हाथी के कारण ट्रेनों की गति बढ़ाने पर पार्क प्रबंधन ने रोक लगा रखी है। नये वन्यप्राणी के कारण पार्क प्रबंधन दोहरीकरण लाइन की स्वीकृति देने को तैयार नहींं है। रेल प्रशासन अब हरिद्वार से ऋषिकेश तक दोहरीलाइन बनाने की योजना तैयार कर रहा है, इसका सर्वे कराया जा रहा है। मंडल वाणिज्य प्रबंधक गौरव दीक्षित ने बताया कि राजाजी नेशनल पार्क में वन्यजीव को लेकर रेल कर्मचारियों को सतर्क रहने का आदेश दिया है।