अमेरिका को तालिबान का फरमान 11 सितम्बर तक अफ़ग़ानिस्तान छोड़ दे

तालिबान के एक कमांडर और हक्कानी नेटवर्क आतंकवादी समूह के वरिष्ठ नेता अनस हक्कानी ने बातचीत के लिए अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई से मुलाकात की.

अमेरिका को तालिबान का फरमान 11 सितम्बर तक अफ़ग़ानिस्तान छोड़ दे

तालिबान के एक अधिकारी ने बुधवार को तालिबान के एक कमांडर और हक्कानी नेटवर्क आतंकवादी समूह के वरिष्ठ नेता अनस हक्कानी ने बातचीत के लिए अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई से मुलाकात की. तालिबान द्वारा सरकार बनाने के प्रयासों के तालिबान के अधिकारी ने बताया कि बैठक में करजई के साथ पुरानी सरकार के मुख्य शांति दूत अब्दुल्ला अब्दुल्ला भी थे। उन्होंने कोई और विवरण नहीं दिया है की दोनों के बीच क्या बाते हुई है.


हक्कानी नेटवर्क तालिबान का एक महत्वपूर्ण गुट है, जिसने रविवार को राजधानी काबुल पर कब्जा कर लिया था। पाकिस्तान के साथ सीमा पर स्थित नेटवर्क पर हाल के वर्षों में अफगानिस्तान में कुछ सबसे घातक आतंकवादी हमलों का आरोप लगाया गया था। वही दूसरी तरफ तालिबान ने अमेरिका को समय सीमा दे दी है की अमेरिकन को 11 सितम्बर तक अफ़ग़ानिस्तान छोड़ दे. वही अमेरिका के करीब दस हजार सैनिक इस समय अफ़ग़निस्तान में मौजूद है. 

अफ़ग़ानिस्तान में अपनी जनता को मरने के लिए काबुल छोड़ के भाग जाने वाले अशरफ गनी इस समय यूएई की राजधानी आबूधाबी में शरण लिए बैठे है. सूत्रों के मुताबिक अशरफ गनी अब वही रहेंगे. अपनी अवाम की चिंता छोड़ हेलीकाप्टर में भर भर के पैसा लेकर भागने वाले अशरफ के पास दौलत ही दौलत थी लेकिन ज्यादा पैसा होने की वजह से वो और पैसा अपने साथ नहीं ला पाए.