पेगासस जासूसी मामले पर अगले हफ्ते सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

पेगासस जासूसी मामले पर अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। इस मामले में वरिष्ठ पत्रकार एन राम की याचिका वकील कपिल सिब्बल ने सीजेआई के सामने रखी

पेगासस जासूसी मामले पर अगले हफ्ते  सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

पेगासस जासूसी मामले पर अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। इस मामले में वरिष्ठ पत्रकार एन राम की याचिका वकील कपिल सिब्बल ने सीजेआई के सामने रखी साथ ही जल्द सुनवाई की प्रार्थना की। सीजेआई ने अगले हफ्ते सुनवाई के आश्वासन दिया है। याचिका में वर्तमान/पूर्व सुप्रीम कोर्ट जज से जांच करवाने की मांग की गई है। स्मार्ट फोन के इस दौर में निजी बातचीत या जानकारी की रक्षा को लेकर कानून काफी पीछे चल रहा है। इंडियन टेलीग्राफ एक्ट, 1885 में 2007 में हुए संशोधन के बाद फोन टैपिंग को लेकर नियम बने थे। 


इसके तहत देश की रक्षा या गंभीर अपराध की निगरानी के मामलों में उच्चस्तरीय अनुमति पर फोन टैपिंग हो सकती है। किसी राज्य में गृह सचिव स्तर से मिलने वाली अनुमति के बाद 60 दिन तक किसी फोन की टैपिंग हो सकती है। इसे अधिकतम 180 दिन तक जारी रह सकता है। स्मार्ट फोन में उपलब्ध तमाम तरह के ऐप में डाली गई जानकारी की चोरी, कॉल या मैसेज के ज़रिए की गई बातचीत के लीक होने को लेकर यह कानून अलग से कुछ नहीं कहता है। 


इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट, 2000 और उससे जुड़े नियमों में इंटरनेट डेटा की सुरक्षा की बात कही गई है। लेकिन ऐसे मामलों को देखने के लिए के लिए डेटा प्रोटेक्शन ऑथोरिटी ऑफ इंडिया का गठन अभी तक नहीं हुआ है. 2018 में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस बी एन श्रीकृष्णा की अध्यक्षता वाले आयोग ने डेटा सुरक्षा पर सिफारिश सरकार को सौंपी थी। इसके आधार पर सरकार ने निजी डेटा की रक्षा के लिए पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल, 2019 संसद में रखा. इसी के तहत डेटा प्रोटेक्शन ऑथोरिटी का गठन होना है लेकिन अभी यह बिल संयुक्त संसदीय कमिटी के पास लंबित है। 


NSO को पूछताछ के लिए नोटिस भेज सकती है

वैसे तो डेटा सुरक्षा पर स्पष्ट कानून का अभाव है लेकिन अगर किसी व्यक्ति को पुख्ता तौर पर पता है कि स्पाईवेयर के ज़रिए उसकी जासूसी हुई है। निजी जानकारी के लीक होने से उसका कोई नुकसान हुआ है तो वह पुलिस को शिकायत दे सकता है। पुलिस का सायबर सेल मामले की पड़ताल कर सकता है। ज़रूरत पड़े तो पुलिस पेगासस को बनाने वाली कंपनी NSO को भी पूछताछ के लिए नोटिस भेज सकती है। हालांकि, यह सब होने से पहले पुलिस को यह देखना होगा कि वर्तमान में उपलब्ध कानूनों के आधार पर कोई मामला बन भी रहा है या नहीं। 


कोर्ट सरकार से रिपोर्ट मांगे


इस मामले में यह स्पष्ट नहीं है कि वाकई लोगों की जासूसी हुई है या नहीं। अगर हुई है तो क्या सरकार ने करवाई या किसी अधिकारी ने अपनी तरफ से करवाई? या फिर किसी निजी व्यक्ति ने अपने पैसों से सपाईवेयर खरीदा और इस्तेमाल किया? चूंकि इस विषय पर कानून का अभाव है. ऐसे में कोई भी प्रभावित व्यक्ति हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट जा सकता है। यह मांग की जा सकती है कि कोर्ट सरकार से रिपोर्ट मांगे। 


साथ ही, कोर्ट अपनी तरफ से मामले की निष्पक्ष जांच का आदेश दे। 2017 में जस्टिस पुत्तास्वामी मामले में दिए फैसले में सुप्रीम कोर्ट निजता को मौलिक अधिकार घोषित कर चुका है।  चूंकि यह मामला मौलिक अधिकार की रक्षा से जुड़ा है, इसलिए इसमें कोई भी नागरिक सीधे सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकता है।