नेटफ्लिक्स पर दिखाई जानी वाली "ए बिग लिटिल मर्डर" डॉक्यूमेंट्री पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

दिल्ली उच्च न्यायालय ने ऑनलाइन वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स को "ए बिग लिटिल मर्डर" नामक डॉक्यूमेंट्री दिखाने से रोक दिया है।

नेटफ्लिक्स पर दिखाई जानी वाली "ए बिग लिटिल मर्डर" डॉक्यूमेंट्री पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

दिल्ली उच्च न्यायालय ने ऑनलाइन वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स को "ए बिग लिटिल मर्डर" नामक डॉक्यूमेंट्री दिखाने से रोक दिया है। इस डॉक्यूमेंट्री को गुरुग्राम स्थित अंतर्राष्ट्रीय विद्यालय रयान के वॉशरूम में मृत पाए गए 7 वर्षीय लड़के की दुखद मौत पर आधारित बताया गया है। गुरुग्राम स्थित स्कूल ने अपने ट्रस्ट के माध्यम से डॉक्यूमेंट्री स्ट्रीमिंग के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। 

सभी सन्दर्भों को हटाया जाए 

याचिकाकर्ता की सुनवाई पर जस्टिस जयंत नाथ ने कहा, "ए बिग लिटिल मर्डर" शीर्षक वाली डॉक्यूमेंट्री या इसके किसी भी संक्षिप्त संस्करण को स्ट्रीमिंग, प्रसारण, टेलीकास्टिंग आदि से प्रतिबंधित किया गया है। मैं स्पष्ट कर सकता हूं कि याचिकाकर्ता के स्कूल के सभी संदर्भों को हटाने और उस हिस्से को हटाने के बाद उक्त डॉक्यूमेंट्री को स्ट्रीम कर सकते हैं जहां स्कूल की बिल्डिंग को दर्शाया गया है। 

क्या था मामला 

साल 2017 में हरियाणा के गुरुग्राम में रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात वर्षीय प्रद्युमन का मर्डर हो गया था। वही शक के आधार पर स्कूल के दस लोगों दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया था। पुलिस अधिकारी सुमित कुमार के कहे अनुसार प्रद्युमन का मर्डर घरेलू सब्जी काटने वाले चाकू से हुआ था। पुलिस इन्वेस्टीगेशन में पहला तथ्य सामने आया की  प्रद्युमन का स्कूल में कही शारीरिक शोषण हो रहा था जिसके चलते प्रद्युमन ने विरोध किया और उसकी हत्या कर दी गई। लेकिन कोशिशों के बाद सामने आया की एग्जाम पोस्टपोन करवाने के मकसद से 16 वर्षीय किशोर ने प्रद्युमन की हत्या कर दी थी।