उत्तराखंड में सशक्त भू- कानून की जरूरत है: पूर्व विधायक काशी सिंह ऐरी

प्रेसवार्ता के दौरान पूर्व विधायक काशी सिंह ऐरी ने क्षैतिज आरक्षण पर की चर्चा

उत्तराखंड में सशक्त भू- कानून की जरूरत है: पूर्व विधायक काशी सिंह ऐरी

गुरूवार आज प्रेस को संबोधित करते हुए उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व अध्यक्ष व पूर्व विधायक काशी सिंह ऐरी ने कहा कि मुख्यमंत्री उत्तराखंड से भेंटकर राज्य आंदोलनकारियों के क्षैतिज आरक्षण को लेकर अश्यादेश राज्यपाल के पास हस्ताक्षर हेतु लंबित है। उन्होंने कहा की दल मांग करता है कि राज्य सरकार अविलम्ब सकारात्मक कदम राज्य आंदोलन कोटे से सरकारी नौकरी करने वालो के हितों एवम क्षैतिज आरक्षण उठाए। 


उन्होंने आगे कहा की राज्य में धारा 371 के सशक्त प्रावधान लाकर भू-कानून की मांग की जाती है। राज्य की जमीनों की बाहरी लोगों द्वारा खरीद फ़रोख्त का दल घोर विरोध करता है। इस लिए उत्तराखंड में सशक्त भू- कानून की जरूरत है। इस अवसर पर पूर्व अध्यक्ष पूर्व विधायक पुष्पेश त्रिपाठी जी के कहा कि मूलनिवास की कट ऑफ डेट 1980 लागू हो। 


उक्रांद रोजगार, स्वास्थ्य के सवाल उन्होंने कहा कि राज्य में बढ़ती बेरोजगारी चिंतनीय है, रोजगार के नए आयाम के लिए सरकार की कोई नीति नहीं बना पायी, स्वास्थ्य के क्षेत्र में कोरोनाकाल में अभी तक कि सरकारों की पोल खुल चुकी है।उक्रांद सरकार व राज्य दलों के प्रपंचो को बेनकाब करेगा। प्रेस वार्ता में बी०डी० रतूड़ी, श्री चंद्र शेखर कापड़ी, लताफत हुसैन,सुनील ध्यानी, बहादुर सिंह रावत, ललित बिष्ट,जय प्रकाश उपाध्याय, विपिन रावत, राजेन्द्र बिष्ट आदि उपस्थित थे।