बहन को पसंद करता था दोस्त, भाई की नाराजगी ने ली दोस्त कि जान

पुलिस ने 11वीं के छात्र की हत्या का खुलासा करते हुए हत्या के दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है

बहन को पसंद करता था दोस्त, भाई की नाराजगी ने ली दोस्त कि जान

पुलिस ने 11वीं के छात्र की हत्या का खुलासा करते हुए हत्या के दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है, जिनमें से एक नाबालिग है, जिसने पूछताछ में बताया कि छात्र उसकी फुफेरी बहन को पसंद करता था जिससे आरोपी को यह बात अच्छी नहीं लगी और वह इस बात से नाराज हो गया जिसके बाद उसने अपने दोस्त को जान से मारने की योजना बनाई। कोतवाली सिविल लाइंस की घटना के बारे में बताते हुए डीआईजी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि गांव लहबोली निवासी 18 वर्षीय मंजीत  22 अक्टूबर से लापता था और वह 11वीं कक्षा का छात्र था। वही कई दिनों तक लापता रहने के बाद  23 अक्टूबर की शाम को उसका शव मखदूमपुर में मिला था। उसकी दो बार गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मृतक छात्र के पिता अशोक की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है। 


तमंचा पकड़ा दिया था नाबालिक के हाथ 

सीआईयू और पुलिस टीम आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए टीम गठन किया था। सर्विलांस और सीसीटीवी के आधार पर जब आरोपी की तलाश शुरू की गई तो सीसीटीवी में देखा गया कि छात्र राज सिंह उर्फ ​​मनजीत अपने दोस्त के साथ रंसुरा की ओर जाते हुए मोटरसाइकिल पर बैठा नजर आ रहा है।  26 अक्टूबर को दोस्त अंशुल को गिरफ्तार किया गया था। घटना को अंजाम देने के बाद उसने तमंचा अपने नाबालिग दोस्त को सौंप दिया। पुलिस टीम में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक प्रवीण सिंह कोश्यारी, वरिष्ठ उपनिरीक्षक रफत अली, सीएयू प्रभारी जहांगीर अली, उप निरीक्षक एनके बचकोटी, एसएचओ झाबरेड़ा विनोद थपलियाल आदि शामिल थे।

बुआ की लड़की का करता था पीछा 

वही आरोपी ने बताया 12 अक्टूबर को उनका जन्मदिन था, जिसमें उन्होंने अपने सभी दोस्तों को आमंत्रित किया। इसमें राज सिंह उर्फ ​​मनजीत भी उसके घर आया, जो उसकी बुआ की लड़की का पीछा करता था और 15 अक्टूबर की रात से नशे में धुत होकर मनजीत ने बताया कि वह अंशुल की बहन को पसंद करता है. अंशुल ने बताया कि इससे उसे डंक लग गया और उसने मंजीत को मारकर मारने की योजना बनाई। 22 अक्टूबर को मनजीत को बहाना बनाकर अपने साथ ले गया और सधोली चलने को कहा. मखदुमपुर में ट्रांसफार्मर के पास चकरोड़ पर चल दिए और सिगरेट पीने को कहा. मंजीत ने सिगरेट निकाली थी तभी अंशुल ने उस पर फायर किया।