बीजेपी को लगा झटका, यशपाल आर्य ने की कांग्रेस में घर वापसी, बेटे संजीव भी थामेंगे दामन

उत्तराखंड बीजेपी को मिला जोरदार झटका। उत्तराखंड के दो भाजपा नेता यशपाल आर्य ने फिर कांग्रेस में शमिल हो गए है

बीजेपी को लगा झटका, यशपाल आर्य ने की कांग्रेस में घर वापसी, बेटे संजीव भी थामेंगे दामन

उत्तराखंड बीजेपी को मिला जोरदार झटका। उत्तराखंड के भाजपा नेता यशपाल आर्य ने फिर कांग्रेस में शमिल हो गए है। इसके आलावा यशपाल के बेटे संजीव आर्य भी कांग्रेस का दामन थामने को तैयार है वही संजीव आर्य नैनीताल से विधायक है।  हालाकिं यह भाजपा के लिए झटका साबित हुआ लेकिन कांग्रेस में यशपाल आर्य की वापसी से ख़ुशी जताई गईं है। बता दे की यशपाल आर्य ओर उनके बेटे संजीव साल 2017 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। वही भजपा की  सरकार बनते ही यशपाल आर्य को कैबिनेट मंत्री बनाया गया था। अब दोनों नेताओं ने कांग्रेस में घर वापसी कर ली है।  माना जा रहा है की यशपाल आर्य भाजपा से कुछ नाराज चल रहे थे। मुख्यमंत्री धामी ने यशपाल आर्य ने को मनाने की कोशिश की थी। लेकिन मंत्री जी की नारजगी दूर नहीं हो पाई थी। अब मानना पड़ेगा की सीएम धामी की मनाने की कोशिश रंग नहीं ला पाई। 

दलबदलू हो रहे है नेता 

सियासी रंग में देखा जाए तो कई बार मंत्रियों की इधर से उधर वापसी हो रही है। वही इससे पहले धनौल्टी से निर्दलीय विधायक प्रीतम सिंह पंवार से हुई जिन्होंने साढ़े चार साल बाद भाजपा का दामन थाम लिया। वही हाल ही में कांग्रेस के महासचिव राम सिंह कैड़ा ने भजपा में शामिल हुए है। राम सिंह कैड़ा पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के करीब माने जाते है। साल 2012 में कैड़ा ने कांग्रेस टिकट पर चुनाव लड़ा था लेकिन उन्हें इस चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद पुरोला से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतने वाले राजकुमार ने भी बीजेपी को अपनाया. विधानमंडल को लेकर हंगामे के बीच उन्होंने अपनी विधानसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया। 

पूर्व सीएम हरीश रावत भी मौजूद

बाजेपुर से शापल आर्य और आर्याताल से संजीव विधायक हैं। वहीं, यशपाल आर्य पुष्कर सिंह धामी सरकार में मंत्री थे और उनके छह विभाग थे। शब्दों में परिवहन, समाज कल्याण, कल्याण, छात्र कल्याण, चुनाव और आबकारी विभाग शामिल थे। दिल्ली में यशपाल और संजीव आर्य कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव केसी वेणुगोपाल और प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव की मौजूदगी में पत्रकार वार्ता कर लौटे. इस दौरान नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह, पूर्व सीएम हरीश रावत भी मौजूद और प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल थे।