शेयर मार्केट के दिग्गज राकेश झुनझुनवाला की अधूरी रह गई एक मात्र इच्छा, जानिए झुनझुनवाला का सफ़र

शेयर मार्केट के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने रविवार को 62 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया झुनझुनवाला भारत के वारेन बफे कहे जाते है

शेयर मार्केट के दिग्गज राकेश झुनझुनवाला की अधूरी रह गई एक मात्र इच्छा, जानिए  झुनझुनवाला  का सफ़र

शेयर मार्केट के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने रविवार को 62 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया झुनझुनवाला भारत के वारेन बफे कहे जाते है ,मगर क्या आपको  पता है की एक वक़्त था जब झुनझुनवाला के पिता ने उन्हे पैसे देने से इंकार कर दिया था एक वक़्त ऐसा आया था जब झुनझुनवाला के पास सब कुछ होते हुए भी सत्नान सुख नहीं था झुनझुनवाला का कहना था की उन्हे ज़िन्दगी में सब देखा मगर फिर भी उनकी एक ख्वाहिश थी जो की अधूरी रह गई आइये आपको बताते है झुनझुनवाला के सफ़र के बारे में....

 

राकेश झुनझुनवाला का जन्म पांच जुलाई 1960 को हैदराबाद में हुआ था। 1985 में झुनझुनवाला जब कॉलेज में पढ़ रहे थे तभी से शेयर बाजार में निवेश करना शुरू कर दिया था। मगर क्या आपको पता है की जब राकेश झुनझुनवाला ने पहली बार 5000 रूपए शेयर मार्केट में उतारे तो उन्हे मुनाफा नहीं हुआ जिसके बाद उनके पिता ने शेयर बाज़ार के लिए पैसा देने से मना कर दिया.

 

उनके पिता का कहना था की शेयर बाज़ार में उड़ने के लिए अब एक फूटी कौड़ी नहीं मिलेगी फिर एक वक़्त आया जब १९८६ में उन्होने ४३ रूपए प्रति शेयर की कीमत पर टाटा टी के शेयर खरेदी जो चंद दिनों में तीन गुनाह से भी ऊपर चले गए ये पहली बार था जब झुनझुनवाला को 5 लाख का मुनाफा हुआ और इसके बाद झुनझुनवाला ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा.

 

झुनझुनवाला ने अपनी ज़िन्दगी में बहुत शोहरत कमाई मगर उन्हे संता सुख शादी के 17 साल बाद कई प्रयासों के बाद मिला 22 फरवरी 1987 को झुनझुनवाला की शादी रेखा झुनझुनवाला से हुई। शादी के बाद कई वर्षों तक राकेश और रेखा को संतान नहीं हुई। बच्चे की चाहत में दोनों ने आईवीएफ का भी सहारा लिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक दो नहीं बल्कि छह बार रेखा ने आईवीएफ के जरिये बच्चे की कोशिश की तब जाकर कही  २००४ में उनकी बेटी नताशा का जन्म हुआ। 2009 में राकेश और रेखा के जुड़वा बेटों आर्यमन और आर्यवीर का जन्म हुआ।



झुनझुनवाला बहुत ही सादगी भरे इन्सान थे मगर उन्होने अपने एक इंटरव्यू में इस बात को कुबूल किया था की मैंने एहसास किया है कि मुझे कड़े अनुशासन का पालन करना होगा। मैं डायबिटिक हूं और मछली की तरह पीता हूं। मेरी बस एक ही इच्छा है की मै मेरे जुड़वां बच्चों को 25 साल का होता देखना चाहता हूं।' मगर अफ़सोस झुनझुनवाला का निधन हुआ तो उनके जुड़वां बच्चों की उम्र 12 साल ही हुई है। इस तरह ‘बिग बुल’ की एक ख्वाहिश अधूरी रह गई है।