गंदगी का अलाम देखकर अनूपमा रावत बाल्टी उठाकर निकलती रही गंदा पानी

विधानसभा 2022 के चुनाव अब बेहद नजदीक है तो ऐसे में राजनेता अपने वोटरों को लुभाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाते नजर आएंगे

गंदगी का अलाम देखकर अनूपमा रावत बाल्टी उठाकर निकलती रही गंदा पानी

राजनीति एक नेता से क्या कुछ नहीं करवा देती।उत्तराखंड में विधानसभा 2022 के चुनाव अब बेहद नजदीक है तो ऐसे में राजनेता अपने वोटरों को लुभाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाते नजर आएंगे। अपने देव तुल्य मतदाताओं के दिलों में उतरने के लिए वह कोई भी कसर नहीं छोड़ते। बिल्कुल ताजा मामला खानपुर विधानसभा के अब्दुल रहीमपुर गांव का है।यहां पर अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव अनुपमा रावत इस गांव में पहुंची थी। 


जहां पर सड़क पर गंदा पानी भरा देख अनूपमा रावत अपने कार्यकर्ताओं के साथ खुद ही बाल्टी लेकर सड़क में भरे गंदे पानी को बाहर निकालने लगी। इस चुनावी दौर में पूर्व सीएम हरीश रावत की बेटी अनूपमा रावत को आखिर इन गांवो की जनता की याद आ ही गई है। अनूपमा रावत हरिद्वार ग्रामीण लक्सर और खानपुर विधानसभा में पिछले काफी दिनों से सक्रिय नजर आ रही हैं। हालांकि उनकी सक्रियता के बावजूद उन्हें स्थानीय लोगों का कोई खास समर्थन मिलता नहीं दिखता।


यह जरूर माना जा रहा है कि इन तीनों विधानसभाओं में से किसी एक सीट से अनूपमा टिकट पर दावा जरूर करेंगी। दूसरी ओर अब्दुल रहीमपुर गांव कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन की विधानसभा का गांव है। इस दौरान अनूपमा रावत ने कुंवर चैंपियन पर निशाना साधते हुए कहा कि 20 साल के विधायक ने अपने क्षेत्र में इस तरह का विकास किया है।तस्वीरे आपके सामने है गांव की सड़क नजर नही आती ,बल्कि पूरी सड़क गंदे पानी से डूबी पड़ी है।उन्होंने कहा ऐसे में तो गंभीर बीमारी भी फैलने का खतरा बना हुआ है। उन्होंने हरिद्वार के सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक को भी आड़े हाथों लिया उन्होंने कहा डॉ निशंक गोवर्धन पुर गांव की गोद लिया था और यह गांव गोवर्धनपुर गांव की न्याय पंचायत में आता है लेकिन गांव की यह बुरी हालत किसी को दिखाई नहीं दे रही है।