तीन तलाक पर इंकार, पति ने की भाई के संग मिलकर अपने सात की बेटी की हत्या बेरहमी से काटा गाला

एक पिता जो अपने बच्चों का साया होता है उनकी परवरिश करता है लेकिन एक पिता ने इस कथन के बिलकुल विपरीत कार्य कर दिखाया

तीन तलाक पर इंकार, पति ने की भाई के संग मिलकर अपने सात की बेटी की हत्या बेरहमी से काटा गाला

एक पिता जो अपने बच्चों का साया होता है उनकी परवरिश करता है लेकिन  एक पिता ने इस कथन के बिलकुल विपरीत कार्य कर दिखाया जिसने इतनी घिनौनी हरकत कि की अपनी पत्नी को फ़साने के लिए अपने सात साल की बेटी को मौत के घाट उतार दिया। यह घटना उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर की है। जहाँ एक व्यक्ति ने अपने पड़ोसी के साथ मिलकर अपनी बेटी की हत्या कर दी उसने अपनी बेटी को हत्या करवाने के लिए 8000 हजार रुपये दिए थे। 

पड़ोसी था शामिल 

19 सितंबर को बुलंदशहर में पीड़िता सबा का गला रेत कर खून से लथपथ पाया गया था. वही नाबालिक मृतक के पिता मुज़म्मिल शमद, जो दिल्ली में एक कैब सेवा चलाता हैं, जो शनिवार को अपने पड़ोसी, आमिर और अपने भाई मुदस्सिर शमद के साथ हत्या की साजिश की थी। जिसके बाद अपने बेटी के गायब होने के शक के आधार पर शबनम ने अपने पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के साथ हत्या और आपराधिक साजिश रचने का मामला दर्ज किया गया है।

चाचा और पिता ने की हत्या 

बुलंदशहर के पुलिस अधीक्षक (एसपी) संतोष कुमार सिंह ने मीडिया को बताया के दौरान जांच के दौरान, हमने पाया कि सबा को उसके चाचा मुदस्सिर ने पकड़ा था, जिसने उस पर हथौड़े से हमला किया था जबकि आमिर ने अपनी बेटी सबा का बेरहमी से गला काट दिया था। इस घटना को अंजाम देने के बाद वो दोनों छुपे रहे ।


तेज़ाब फेकने की कोशिश 

एसपी ने कहा आरोपी इस महीने की शुरुआत में अपने भाई और पड़ोसी से मिला था और अपनी बेटी की हत्या के लिए अपनी पत्नी शबनम को फंसाना चाहता था, उन्होंने कहा कि उन्हें पास के एक खेत से आमिर के कपड़े पीड़ित के खून से लथपथ मिले हैं। शबनम के अनुसार, उससे 2010 में शमद से शादी की थी और उसने 2014 में उसे तीन तलाक दिया था। उसने कहा उसने मेरी अनुपस्थिति में मुझे तलाक दे दिया, इसे अमान्य कर दिया। उसने अगले वर्ष फिर से निकाह किया और मुझे अपना घर छोड़ने का दवाब बनाने लगा। उसने 2018 में मुझ पर तेजाब फेंकने की भी कोशिश की, लेकिन असफल रहा।


बेटे के हत्या में पिता का हाथ 

एसपी ने पुष्टि की कि शबनम ने 2018 में एसिड हमले के प्रयास के बारे में शिकायत दर्ज की थी, लेकिन स्वीकार किया कि "सबूत की कमी" के कारण पति के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। महिला ने तीन साल पहले अपने बेटे को भी खो दिया था और उसका मानना है कि इस घटना में उसके पति की भूमिका थी। “मेरे पति ने हमारे नौ साल के बेटे को भी मार डाला। वह तीन साल पहले छत से गिर गया था, लेकिन मेरा मानना है कि उसे धक्का दिया गया था, ”उसने कहा। उसका बड़ा बेटा अपने नाना-नानी के पास रहता है। मैंने अपने बच्चों को खो दिया है। मेरे पास खोने के लिए और कुछ नहीं है, मैं न्याय के लिए लड़ूंगी।