पीएम मोदी का IMA से अनुरोध कहा योग के फायदों को लेकर करें शोध

कोरोना काल मेँ अपनी जान गंवा चुके डॉक्टर्स को डॉक्टर डे पर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

पीएम मोदी का IMA से अनुरोध कहा योग के फायदों को लेकर करें शोध

पीएम नरेंद्र मोदी ने डॉक्टर्स डे के अवसर पर कोरोना काल मेँ जान गवा चुके डॉक्टरों को श्रद्धांजलि दी उन्होंने इस अवसर पर IMA से अनुरोध किया की वे योग के फायदों को लेकर शोध करें क्यूंकि जब डॉक्टर शोध करते है तो दुनिया इसे गंभीरता से लेती है। पीएम ने कहा कि क्या आईएमए ऐसी स्टडी को मिशन मोड में आगे बढ़ा सकता है। 

डॉक्टर्स डे के मौके पर पीएम मोदी ने डॉक्टरों को संबोधित करते हुए कहा कि कि कई आधुनिक मेडिकल साइंस संस्थान इस बात पर स्टडी कर रहे हैं कि कोरोना संक्रमित होने के बाद कैसे योग लोगों को उबरने में मदद कर सकता है. पीएम मोदी ने डॉक्टरों की जमकर तारीफ करते हुए कहा, डॉक्टरों के ज्ञान और अनुभव के चलते कोरोना वायरस से लड़ने में मदद मिल रही है। हेल्थ सेक्टर के बजट को भी सरकार की ओर से दोगुना कर दिया है। 

बता दें IMA  के मुताबिक 1500 से ज़्यादा डॉक्टरों की जान कोरोना की इस महामारी ने ली है। IMA के मुताबिक योग से किसी तरह का मतभेद नहीं है और पीएम की अपील का पूरा सम्मान है। कोरोना महामारी की लड़ाई में डॉक्टरों का सबसे बड़ा योगदान रहा है। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन से डॉक्टरों का मनोबल बढ़ाने की कोशिश की है जिससे कि कोरोना की लड़ाई मजबूती से लड़ी जा सके। 

पीएम की अपील पर आईएमए के पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर विनय अग्रवाल ने कहा कि इसमें कोई मतभेद नहीं है। योग इंस्टीट्यूट बनाए गए हैं। योग को नई साइंस का दर्जा दिया गया है। आयुष मिनिस्ट्री भी है। अग्रवाल ने कहा कि हमलोग उनके साथ हैं। मैं तो कहूंगा सरकार को और फंड आवंटित करना चाहिए और इन सब साइंस को जो इससे संबंधित हैं सभी को प्रमोट करना चाहिए। 

पिछले लगभग डेढ़ साल से कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जंग लड़ रहे चिकित्सकों के योगदानों की सराहना करते हुए पीएम ने कहा, ‘‘कोरोना से लड़ाई में जितनी चुनौतियां आईं, हमारे चिकित्सक और वैज्ञानिकों ने उतने ही समाधान तलाशें और प्रभावी दवाइयां बनाईं.’’ उन्होंने कहा कि यह वायरस नया है और यह नए -नए  स्वरूप भी ले रहा है किंतु चिकित्सकों की जानकारी और उनके अनुभव वायरस के खतरों और चुनौतियों का डटकर मुकाबला कर रहे हैं।