पीएम मोदी ने 'CoWIN' की भूमिका का किया जिक्र, सौ साल में ऐसी महामारी पहले नहीं देखी गई

राष्ट्र कितना भी शक्तिशाली हो पर ऐसी भयंकर बिमारी का सामना नहीं कर सकता पीएम मोदी ने 'CoWIN' की भूमिका का किया जिक्र

पीएम मोदी ने 'CoWIN' की भूमिका का किया जिक्र, सौ साल में ऐसी महामारी पहले नहीं देखी गई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार आज कोविन ग्लोबल कॉन्क्लेव को संबोधित किया उन्होंने कोरोना महामारी जूझने में डिजिटल प्लेटफार्म 'CoWIN' की भूमिका का जिक्र किया। उन्होंने कहा की सौ वर्षों में ऐसी महामारी पहले नहीं देखी गई। साथ ही इस प्लेटफार्म को वैश्विक स्तर पर मुहैया कराने की बात कही। उन्होंने कहा राष्ट्र कितना भी शक्तिशाली हो पर ऐसी भयंकर बिमारी का सामना नहीं कर सकता। इस वर्चुअली संवाद में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और कोविन पोर्टल के सीइओ आरएस शर्मा भी शामिल थे। 

कॉन्क्लेव में भारत की ओर से महामारी कोविड-19 से बचाव के लिए इस्तेमाल किए जा रहे डिजिटल प्लेटफार्म कोविन को दूसरे देशों के लिए आधिकारिक तौर पर दिए जाने की पेशकश की गई। बता दें कि कनाडा, मेक्सिको, नाइजीरिया, पनामा और युगांडा समेत करीब 50 देशों ने अपने वैक्सीनेशन अभियान के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म कोविन को लेकर रुचि दिखाई है। मोदी जी ने कहा 'भारतीय सभ्यता पूरी दुनिया को एक परिवार के तौर पर देखती है। इसे महामारी के दौरान लोगों ने महसूस भी किया होगा। इसलिए कोविड वैक्सीनेशन के लिए हमारे तकनीकी प्लेटफार्म CoWIN को ओपन सोर्स के तौर पर तैयार किया जा रहा है।

पीएम ने कहा 'महामारी से निजात पाने में वैक्सीनेशन बेहतर उम्मीद है और शुरुआत से भारत में हमने वैक्सीनेशन के लिए हमने डिजिटल तरीका ही अपनाने का फैसला किया।' महामारी कोविड-19 से संघर्ष में तकनीक की अहम भूमिका पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम जल्द ही हमारे कोविड ट्रेसिंग व ट्रैकिंग एप का ओपन सोर्स मुहैया कराएंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना संक्रमण से उभरने के लिए वैक्सीनेशन एक उम्मीद है। हमने शुरू से ही वैक्सीनेशन अभियान को डिजिटल माध्यम से जोड़ा है। हम सभी को एकसाथ मिलकर आगे बढ़ना होगा।