पकिस्तान: मुस्लिम समाज के कुछ लोगों ने क्रूरता के साथ हिन्दू मंदिर में कि तोड़फोड़

अपनी बेशर्मता और वाहियाद हरकतों से बाज ना आने वाला पकिस्तान एक बार मानवता के नाम पर अपना गिरगिट का रंग दिखाया है।

पकिस्तान: मुस्लिम समाज के कुछ लोगों ने  क्रूरता के साथ हिन्दू मंदिर में कि तोड़फोड़

अपनी बेशर्मता और वाहियाद हरकतों से बाज ना आने वाला पकिस्तान एक बार मानवता के नाम पर अपना गिरगिट का रंग दिखाया है। पकिस्तान ने बर्बरता के साथ हिन्दू मंदिर निशाना बनाया है। मामला पंजाब प्रान्त के सादिकाबाद जिले के भोंग शरीफ गांव का है जहां कुछ मुस्लिम समाज के कुछ लोग मिलकर बड़ी क्रूरता के साथ सिद्धिविनायक मंदिर में जमकर तोड़ फोड़ की यह घटना बुधवार शाम की वहीं इस बर्बरता का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। 

इस वायरल वीडियो में इस तरह की हिंसा फ़ैलाने वाले उपद्रवी मंदिर के अंदर डंडे से तोड़ फोड़ करते रहे यहाँ तक की गणेश जी की मूर्ति पर जमकर पत्थर भी फेंका। मंदिर को भरी नुकसान हुआ है मंदिर के कई हिस्से तोड़ दिए गए है। घटना के बाद इलाके में बड़े पैमाने पर पुलिस बल को तैनात कर मामले की जांच कर रही है।

गुनहगारों को बख्शा नहीं जाएगा : इमरान के स्पेशल असिस्टेंट

इस बीच पीएम इमरान खान के स्पेशल असिस्टेंट डॉ. शहबाज गिल ने ट्वीट कर कहा कि बहुत ही दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस अप्रिय घटना का संज्ञान लिया और जिला प्रशासन को मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं। हम आवाम को भरोसा दिलाना चाहते हैं कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। पाकिस्तानी संविधान अल्पसंख्यकों को उनकी पूजा को स्वतंत्र रूप से करने की स्वतंत्रता और सुरक्षा प्रदान करता है।

आए दिन होती हैं ऐसी घटनाएं

पकिस्तान में हिन्दुओं के साथ व उनकी आस्था के साथ आए दिन खिलवाड़ होता रहता है। बीते वर्ष दिसंबर में 
खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में सौ से अधिक लोगों की भीड़ ने एक हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ के बाद आग लगा दी थी। घटना करक जिले के टेरी गांव की थी, जहां स्थानीय मौलवियों की अगुवाई में भीड़ ने मंदिर को नष्ट कर दिया था। इस मामले में कट्टरपंथी जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम पार्टी के नेता रहमत सलाम खट्टक समेत 30 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।