मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आदेश, फिरोजाबाद और अन्य जिलों में निगरानी में हो सुधार

मंगलवार आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिला अधिकारियों से फिरोजाबाद और अन्य जिलों में निगरानी में सुधार करने को कहा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आदेश, फिरोजाबाद और अन्य जिलों में निगरानी में हो सुधार

मंगलवार आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिला अधिकारियों से फिरोजाबाद और अन्य जिलों में निगरानी में सुधार करने को कहा, जो डेंगू और वायरल बुखार के प्रकोप से जूझ रहे हैं, जिसमें 50 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। आदित्यनाथ ने यह भी घोषणा की कि सरकार राज्य में आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं के मानदेय को बढ़ाने के लिए आगे बढ़ी है। 

हो सकता है फायदेमंद 

मुख्यमंत्री ने यहां एक बैठक को संबोधित करते हुए कहा डेंगू और वायरल बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए फिरोजाबाद, मथुरा, आगरा और अन्य जिलों में प्रभावी व्यवस्था की जानी चाहिए। निगरानी को बेहतर बनाया जाना चाहिए और चिकित्सा किट का वितरण कार्य शुरू होना चाहिए। उन्होंने कहा शिकोहाबाद (फिरोजाबाद) में 100 बिस्तरों वाला अस्पताल बनकर तैयार है वही स्तानीय मरीजों के लिए मददगार साबित हो सकता है। 

अनावश्यक भीड़ से बचना चाहिए

इसके अतिरिक्त बेड, दवा, पैरामेडिकल स्टाफ, डॉक्टर, दवाएं वहां उपलब्ध कराई गई हैं और जरूरत पड़ने पर इसे और बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि ओपीडी में अनावश्यक भीड़ से बचना चाहिए और रोगियों के परिवार के सदस्यों को स्वास्थ्य अपडेट दिया जाना चाहिए और सीएम हेल्पलाइन भी उन तक पहुंचनी चाहिए। फिरोजाबाद में अब तक डेंगू और वायरल बुखार से 51 लोगों की जान जा चुकी है। पिछले हफ्ते फिरोजाबाद के तीन डॉक्टरों को लापरवाही के आरोप में निलंबित कर दिया गया था। 

डेंगू के संदिग्ध मामलों के कारण हुई मौते 

फिरोजाबाद की मुख्य चिकित्सा अधिकारी नीता कुलश्रेष्ठ को भी 18 अगस्त से वायरल बुखार और डेंगू के संदिग्ध मामलों के कारण हुई मौतों के बाद हटा दिया गया था, जिनमें ज्यादातर बच्चे थे। मुख्यमंत्री ने स्थिति का जायजा लेने के लिए 30 अगस्त को जिले का दौरा किया था। बैठक में मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि कोरोना की स्थिति में सुधार को देखते हुए रात 11 बजे से सुबह 6 बजे के बीच कोरोना कर्फ्यू होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा, अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि रात 11 बजे तक सभी बाजार बंद हो जाएं। फिलहाल बाजार रात 10 बजे से सुबह 6 बजे के बीच बंद रहते हैं। 

आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं की सरहाना 

राष्ट्रीय पोषण माह 2021′ की शुरुआत के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए, आदित्यनाथ ने कहा, “जब कोरोना महामारी के दौरान, लोगों ने अपने घरों में खुद को अलग कर लिया, तो इन आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं ने गांवों में लोगों तक पहुंचकर दवाएं उपलब्ध कराईं और अद्भुत काम किया। उनकी मदद के बिना स्थिति को नियंत्रित करना मुश्किल होता। उनके अच्छे कामों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने उनका मानदेय बढ़ाने का फैसला किया है और इस दिशा में भी आगे बढ़ी है. इस संबंध में विभाग योजना तैयार कर रहा है। मैंने उनका बकाया, यदि कोई हो, तुरंत भुगतान करने के लिए भी कहा है। 

शॉल देकर किया सम्मानित 

इस अवसर पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल व मुख्यमंत्री ने प्रदेश में 529 आंगनबाडी केन्द्रों का उद्घाटन कर कार्यकर्ताओं को प्रमाण पत्र व शॉल देकर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा आंगनवाड़ी केंद्रों का अपना भवन होना चाहिए, हमने इसे अपनी सरकार की प्राथमिकता में रखा है। इसे एक अभियान के रूप में आगे बढ़ाया जाना चाहिए।