ओला ने अपनाया फंड जुटाने के लिए आईपीओ का रास्ता, 1 अरब डॉलर जुटाने की उम्मीद

ओला भारत की उन कंपनियों में शामिल है, जिन्होंने फंड जुटाने के लिए आईपीओ का रास्ता अपनाया है।

ओला ने अपनाया फंड जुटाने के लिए आईपीओ का रास्ता, 1 अरब डॉलर जुटाने की उम्मीद

ओला भारत की उन कंपनियों में शामिल है, जिन्होंने फंड जुटाने के लिए आईपीओ का रास्ता अपनाया है। उग्र आईपीओ उन्माद (फुरियस आईपीओ फ्रेंज़ी) ने इस महीने अगस्त के पहले 20 दिनों में आईपीओ लॉन्च करने के लिए नियामक (नियम पर चलाने वाला) अनुमति की मांग करने वाले 23 प्रवेश के साथ एक तरह का रिकॉर्ड बनाया है। 


ब्लूमबर्ग ने बताया कि राइड शेयरिंग कंपनी ओला ने अपनी आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) का प्रबंधन करने के लिए सिटीग्रुप और कोटक महिंद्रा बैंक का चयन किया है, जिसके अक्टूबर में लॉन्च होने की उम्मीद है। ओला के आईपीओ के जरिए 1 अरब डॉलर जुटाने की उम्मीद है। 


सॉफ्टबैंक ग्रुप कॉर्प और टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट द्वारा समर्थित कंपनी ने लिस्टिंग के लिए मॉर्गन स्टेनली को भी चुना है, ब्लूमबर्ग ने घटनाक्रम से अवगत लोगों का हवाला देते हुए बताया। ओला भारत की उन कंपनियों में शामिल है, जिन्होंने फंड जुटाने के लिए आईपीओ का रास्ता अपनाया है। उनमें से सबसे उल्लेखनीय खाद्य-वितरण फर्म जोमैटो थी, जिसने पिछले महीने शानदार शुरुआत की थी। 

बर्कशायर हैथवे इंक-समर्थित पेटीएम और सॉफ्टबैंक समर्थित हॉस्पिटैलिटी कंपनी ओयो होटल्स इस साल बाजारों में प्रवेश करने वाले अन्य भारतीय स्टार्टअप्स में शामिल हैं। वॉलमार्ट इंक द्वारा नियंत्रित भारतीय ई-कॉमर्स, फ्लिपकार्ट और डिजिटल शिक्षा स्टार्टअप बायजू भी अपनी पहली बार शेयर बिक्री की तैयारी कर रहे हैं। 


ओला वर्तमान में भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और यूके के 250 शहरों में लगभग 1.5 मिलियन ड्राइवरों के साथ साझेदारी करती है। जुलाई में, उबेर के प्रतिद्वंद्वी ने टेमासेक होल्डिंग्स पीटीई और वारबर्ग पिंकस के एक सहयोगी सहित निवेशकों से $ 500 मिलियन जुटाए। 


उग्र आईपीओ उन्माद ने इस महीने अगस्त के पहले 20 दिनों के साथ लगभग 40,000 करोड़ रुपये की प्राथमिक शेयर बिक्री शुरू करने के लिए नियामक अनुमति की मांग करने वाले 23 फाइलिंग के साथ एक तरह का रिकॉर्ड बनाया है। इस महीने आठ कंपनियां पहले ही 18,200 करोड़ रुपये से अधिक जुटा चुकी हैं। 


उनमें से प्रमुख देवयानी इंटरनेशनल थी, जिसका आईपीओ 4 अगस्त से 6 अगस्त के बीच सदस्यता के लिए खुला था। देवयानी इंटरनेशनल आईपीओ का मूल्य बैंड ₹86 से ₹90 प्रति इक्विटी शेयर था। यह भारत में पिज्जा हट, केएफसी और कोस्टा कॉफी की सबसे बड़ी फ्रेंचाइजी है। 

वास्तव में, 4 अगस्त सड़क के लिए सबसे बड़ा दिन था क्योंकि एक्सारो टाइल्स, कृष्णा डायग्नोस्टिक्स और विंडलास बायोटेक ने अगस्त में अपने आईपीओ लॉन्च किए थे। कई आईपीओ को 100 से अधिक बार ओवरसब्सक्राइब किया गया है और कई ब्रोकरेज का कहना है कि इस साल कुल इश्यू 100 अंक से ऊपर हो सकते हैं।