विधायक जी यह जनता आपका भाषण सुनने नहीं आई है: आप पार्टी के उपाध्यक्ष शिशुपाल रावत

देश की आजादी के बाद भी रामनगर विधानसभा के 24 वन ग्राम आज भी बिजली पानी स्वास्थ्य सड़क के लिए मोहताज हैं

विधायक जी यह जनता आपका भाषण सुनने नहीं आई है: आप पार्टी के उपाध्यक्ष शिशुपाल रावत

देश की आजादी के बाद भी रामनगर विधानसभा के 24 वन ग्राम आज भी बिजली पानी स्वास्थ्य सड़क के लिए मोहताज हैं। शिक्षा के नाम पर टूटे-फूटे प्राइमरी व आठवीं तक के स्कूल है, उनमें भी शिक्षकों का हमेशा अभाव रहता है। आम आदमी पार्टी के प्रचार कमेटी के उपाध्यक्ष शिशुपाल रावत पिछले दिनों सुंदरखाल से जुड़े इन ग्रामों में गए और इनकी समस्या को देखी। 

दस दिनों से दे रहे है धरना 

इसी दौरान आप उपाध्यक्ष ने 14 किलोमीटर पैदल चलकर इन्हीं मामलों पर , एसडीएम को ज्ञापन दिया था लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं होने के बाद, ग्रामवासी पिछले 10 दिन से तहसील में लगातार धरना दे रहे थे । लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं होने के बाद आज, सभी ग्रामीणों ने आम आदमी पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष शिशुपाल रावत के नेतृत्व में विधायक कार्यालय घेरने का प्रस्ताव रखा, जिसमें आज प्रदेश उपाध्यक्ष शिशुपाल रावत के नेतृत्व में सैकड़ों सुंदरखाल वासी विधायक कार्यालय घेरने गए थे ।।

उठिये हम आपका भाषण सुनने नहीं आए है 

जब विधायक जी जुमलेबाजी के भाषण दे रहे थे तो आम आदमी पार्टी के उपाध्यक्ष, शिशुपाल रावत ने उन्हें रोक करके पूछा कि विधायक जी यह लोग आपके भाषण सुनने नहीं आए हैं आप सिर्फ यह बताइए आपने सुंदरखाल वालों के लिए आज के दिन तक बिजली पानी सड़क स्वास्थ्य के लिए क्या काम किया और आपने कभी क्या विधानसभा में इन लोगों की आवाज उठाई उसकी वीडियो एक हमें दे दीजिए हम मान जाएंगे कि आपने इनकी आवाज उठाई है। उठाइए  हम आपके भाषण सुनने नहीं आए हैं इतनी बात पर दोनों के बीच कहासुनी हो गई धक्का-मुक्की हुई जिसमें बीच-बचाव में पुलिस के अधिकारी आए और उन्होंने बीच बचाव किया वहां पर लोगों ने शिशुपाल रावत जिंदाबाद के नारे लगाए व शिशुपाल रावत संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं यह सुनकर के विधायक अपने ही कार्यालय से चुपचाप से दाएं बाएं हो गए। 

पुरे प्रदेश के लिए लड़ना चाहता हूँ 

शिशुपाल रावत ने कहा कि मैं आम आदमी के लिए गरीब के लिए दलितों के लिए रामनगर विधानसभा ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश में लड़ता रहूंगा। उसके बाद जब वह गुस्से में उठकर के वहां से निकलकर बाहर आए तो जनता भी उनके साथ बाहर आ गई उनके कार्यकर्ताओं ने नारे लगाए कि जब जब भाजपा डरती है पुलिस को आगे करती है जब जब विधायक डरता है पुलिस को आगे करता है के नारों लगाने लग गए।