बारिश बनी मुसीबत अग्रिम आदेशों तक रुकी केदारनाथ यात्रा, जहां है वही रहने की अपील

पिछले तीन दिनों से हो रही बारिश के चलते चारधाम यात्रा के लिए मुसीबत बन गया वही एतिहयात बरतते हुए केदारनाथ यात्रा रोक दी गई

बारिश बनी मुसीबत अग्रिम आदेशों तक रुकी केदारनाथ यात्रा, जहां है वही रहने की अपील
पिछले तीन दिनों से हो रही बारिश के चलते चारधाम यात्रा के लिए मुसीबत बन गया वही एतिहयात बरतते हुए केदारनाथ यात्रा रोक दी गई। केदारनाथ यात्रा सोमवार को महज एक घंटे तक चली। धाम पहुंचे श्रद्धालुओं का दिन भर दर्शन होता रहा, लेकिन जिला मुख्यालय से गौरीकुंड तक हजारों तीर्थयात्रियों को जगह-जगह रोक दिया गया। मंगलवार तक बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए प्रशासन ने यात्रियों से अपील की है कि वे जहां हैं वहीं रहें और सतर्क रहें। सोमवार को सोनप्रयाग से सुबह आठ बजे तक 8530 यात्रियों को केदारनाथ के लिए रवाना किया गया, लेकिन उसके बाद केदारघाटी व केदारनाथ में भारी बारिश और घने कोहरे के कारण प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से यात्रा रोक दी।  

इस दौरान पांच हजार यात्रियों को रुद्रप्रयाग से गुप्तकाशी तक जगह-जगह रोका गया। वहीं, सोनप्रयाग में 2000 और गौरीकुंडो में 3200 यात्रियों को रोका गया। सुबह नौ बजे के बाद यात्रियों को सोनप्रयाग से केदारनाथ नहीं भेजा गया, सुबह आठ बजे तक धाम के लिए निकले यात्रियों को पुलिस व अन्य सुरक्षाकर्मियों की मौजूदगी में हल्की बारिश के दौरान धीरे-धीरे आगे बढ़ाया गया. इस दौरान जहां कहीं बारिश तेज हुई, यात्रियों को रोक लिया गया। प्रशासन के मुताबिक दोपहर तक 45 फीसदी से ज्यादा यात्री पैदल ही सुरक्षित धाम पहुंच गए थे. बाकी यात्री भी देर शाम तक धाम पहुंच जाएंगे। उधर, केदारनाथ में भी बारिश के कारण 3200 तीर्थयात्रियों को रोक दिया गया। खराब मौसम के चलते केदारनाथ के नीचे भी किसी यात्री को जाने की इजाजत नहीं थी। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा के लिए सोनप्रयाग से केदारनाथ तक सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। 

इधर, पुलिस उपाधीक्षक प्रबोध कुमार घिल्डियाल ने बताया कि बारिश के कारण सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यात्रा रोक दी गई. मौसम विभाग के अलर्ट को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया जा रहा है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने यात्रियों से अपील की है कि वे जहां हैं वहीं रहें। पुलिस उपाधीक्षक पीके घिल्डियाल ने यात्रियों को बताया कि जिन यात्रियों ने कमरा बुक नहीं किया है उन्हें रुद्रप्रयाग और अगस्त्यमुनि के बीच होटल, लॉज, रेस्टोरेंट, धर्मशाला भेजा जा रहा है। साथ ही जिन यात्रियों के कमरे बुक किए गए हैं, उन्हें अगले आदेश तक अपने कमरों में ही रहने को कहा गया है। खराब मौसम के कारण सोमवार को केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर सेवाएं काफी हद तक प्रभावित रहीं। गुप्तकाशी, मैखंडा और अन्य हेलीपैड से केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टरों ने सुबह 7 बजे से 7.35 बजे तक उड़ान भरी, लेकिन उसके बाद बारिश और कोहरे के कारण दोपहर से हेली सेवा बंद कर दी गई. दोपहर करीब 1 से 1.20 बजे के बाद सिर्फ तीन-चार शटल हेलीकॉप्टर ही कर पाए।