5G मुक़दमे को "पब्लिसिटी स्टंट" बताने पर जूही ने तोड़ी चुप्पी 14 मिनट का लंबा वीडियो किया जारी

जूही चावला ने 14 मिनट का लंबा वीडियो जारी करते हुए तोड़ी चुप्पी कहा आपको फैसला करने दूंगी

5G मुक़दमे को "पब्लिसिटी स्टंट" बताने पर जूही ने तोड़ी चुप्पी 14 मिनट का लंबा वीडियो  किया जारी

बॉलीवुड एक्ट्रेस जूही चावला ने पर्यावरणविद के उन दावों पर पलटवार किया है कि उनका हालिया मुकदमा 5G वायरलेस नेटवर्क तकनीक के रोलआउट को चुनौती देने वाला एक "पब्लिसिटी स्टंट" था। जूही ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर जूही चावला ने "पब्लिसिटी स्टंट" के आरोपों के खिलाफ अपनी चुप्पी को तोड़ते हुए पक्षियों पर 5G नेटवर्क के प्रभावों से मनुष्यों के स्वास्थ्य और बड़े पैमाने पर पर्यावरण के बारे में किए गए अध्ययनों पर डेटा और रिकॉर्ड पेश करते हुए खुद का 14 मिनट का लंबा वीडियो जारी किया। 

चौंकाने वाला विवरण लाना चाहती हूँ सामने 

जूही ने अपनी वीडियो पोस्ट में कैप्शन देते हुए लिखा "यह समय के बारे में था, यह कैप्शन उन लोगों के लिए थे जो जूही के बारे में नफरत रख रहे है जो उन्हें दिखावटी कह रहे है। जूही ने अपनी वीडियो में कहा मैं आपको तय करने दूंगी  कि क्या यह एक पब्लिसिटी स्टंट था? जूही ने इस  तथ्य पर जोर देते हुए कहा क्या यह प्रगति के खिलाफ नहीं है? उन्होंने अपने तर्क का समर्थन करते हुए डाटा प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा मैं तब तक चुप रही क्यूंकि मेरा मानना है की चुप्पी की अपनी बाहरी आवाज होती है लेकिन मैं अब  ईएमएफ विकिरण की एक ऐसी यात्रा खोज पर हूँ जो स्वास्थ्य प्रभावों और घटनाओं के कुछ महत्वपूर्ण और चौंकाने वाले विवरण सामने लाना चाहता हूं। मुझे उम्मीद है की इस वीडियो को देखने के बाद आप सभी कुछ समय ले सकते है। 

महारष्ट्र के समर्थकों ने मेरे आँख में आंसू ला दिया 

वहीं इस मामले पर लगे जुर्माने को लेकर उन्होंने कहा,"जून में जो कुछ भी हुआ उसने मुझे आहत और भ्रमित महसूस कराया। एक तरफ में मुझे कुछ ख़राब प्रेस की ओर से प्रचार मिला दूसरी तरफ मुझे दूसरे लोगों से दिल छू लेने वाले सन्देश मिले जो पूरी तरह से मेरे समर्थन में थे ऐसा ही एक संदेश महाराष्ट्र में किसानों के एक समूह का था जिसने मेरी आंखों में आंसू ला दिए, वे चाहते थे कि वे अपने 10,000 किसान समुदायों में से प्रत्येक से मदद के लिए एक छोटी राशि एकत्र करने के लिए एक स्वैच्छिक अभियान चलाएँ। मुझे भारी जुर्माना चुकाना है, मुझ पर जुर्माना लगाया गया था। बता दे की "जून में दिल्ली HC ने 5G तकनीक के खिलाफ जूही की याचिका को खारिज कर दिया गया। अदालत ने अपने आदेश में कहा कि वादी ने कानून की प्रक्रिया का दुरुपयोग किया और 20 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। 

स्वास्थ्य चिंताओं के लिए आवाज दी थी

जूही ने आगे पूछा अगर यह “यह एक पब्लिसिटी स्टंट लगता है तो हमारे पास आने से पहले आपने सरकार से संपर्क क्यों नहीं किया? क्या सरकार ने इस मुद्दे पर कार्रवाई करने से इनकार कर दिया था? सरकार ने आपको किसी भी अधिकार से वंचित किया?” कोर्ट ने सुनवाई के दौरान देखा था। "मैंने अपने देश के कई साधारण लोगों की स्वास्थ्य चिंताओं के लिए आवाज उठाई थी। जब तूफान थम गया, और मैं और अधिक स्पष्ट रूप से देख सकती थी, तो मैं शांत और मजबूत हो गई क्योंकि मुझे एहसास हुआ कि एक महत्वपूर्ण, सामयिक, प्रासंगिक और प्रभावशाली क्या है सवाल मैंने उठाया था। अगर ऐसा नहीं होता, तो दुनिया जिस तरह से उभरी होती, क्या वह उसी तरह भड़क उठती?