क्या आपका आरो वॉटर है शुद्ध, कैसे जांचेंगे पेयजल की शुद्धता, 10 रुपये में जाने आरो पेयजल की शुद्धता

इस आधुनिकता के जमाने ने हम सभी ने अपने घरों में शुद्ध पेयजल के लिए आरो प्यूरी फाई जैसी मशीनें लगा रखी है।

क्या आपका आरो वॉटर है शुद्ध, कैसे जांचेंगे पेयजल की शुद्धता, 10 रुपये में जाने आरो पेयजल की शुद्धता
इस आधुनिकता के जमाने ने हम सभी ने अपने घरों में शुद्ध पेयजल के लिए आरो प्यूरी फाई जैसी मशीनें लगा रखी है। लेकिन क्या हम जानते है की आरो से जो हम पानी पी रहे है उसकी गुणवत्ता शुद्ध है या नहीं। यह सवाल एक असमंजस जैसा सवाल है क्यूंकि हम सभी जानते है की आरो और प्यूरी फाई जैसी मशीनों में वाटर शुद्धिकरण फ़िल्टर लगे होते है तो भला कैसे हम मशीनों द्वारा शुद्ध जल की गुणवत्ता पर जाँच सकते है। इन सभी सवालों का जवाब पेयजल विभाग लेकर आ रहा है। इन सभी सवालों के जवाब आप अपने घर के पानी का सैंपल लेकर महज 10 रुपये में पा सकते हैं। 

पेयजल विभाग के तहत अगले चरण में जल संस्थान के स्तर से पानी की आपूर्ति बढ़ाने की तैयारी शुरू कर दी गई है. पेयजल विभाग ऐसी योजना बना रहा है, जिसमें हर घर में ही नहीं बल्कि हर गली और मोहल्ले के पानी की भी जांच की जा सके. यह टेस्ट राज्य भर में एनएबीएल से मान्यता प्राप्त लैब में किया जाएगा। आने वाले समय में पेयजल विभाग द्वारा हर मोहल्ले में डिस्प्ले स्क्रीन भी लगाई जाएगी। 13 मापदंडों के अनुसार इन पर वहां के पानी की गुणवत्ता प्रदर्शित होगी, जो भविष्य में डिजिटल स्क्रीन का रूप ले लेगी। पेयजल विभाग के अनुसार आने वाले छह से आठ माह में यह योजना धरातल पर नजर आएगी। 

पिछले साल, राज्य में केवल एक लैब थी जिसे नेशनल एक्रिडिटेशन बोर्ड फॉर टेस्टिंग एंड कैलिब्रेशन लेबोरेटरी (NABL) द्वारा मान्यता प्राप्त थी। अब इनकी संख्या देश में सबसे ज्यादा है। सचिव पेयजल विभाग नितेश झा के अनुसार प्रदेश के 13 जिलों में 13 एनएबीएल स्वीकृत प्रयोगशालाएं हैं. 13 महत्वपूर्ण उपमंडलों में कुल 27 मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाएं हैं जिनमें 13 एनएबीएल प्रयोगशालाएं और एक राज्य प्रयोगशाला शामिल हैं। नितेश झा, सचिव पेयजल का कहना है पीने का पानी जो हम लोगों को दे रहे हैं। अब हम इसकी गुणवत्ता के लिए बड़े पैमाने पर काम शुरू करने जा रहे हैं। हर घर को दस रुपये में अपना पानी जांचने का मौका दिया जाएगा। गली क्षेत्रों के पानी की गुणवत्ता की भी जांच की जाएगी और प्रदर्शित किया जाएगा। इस योजना पर काम शुरू कर दिया गया है।