भारतीय एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज बनी वुमन ऑफ़ द ईयर

भारत में युवा लड़कियों को खेलों में शामिल होने और लैंगिक समानता के लिए लड़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए वर्ल्ड एथलेटिक्स द्वारा वुमन ऑफ द ईयर

भारतीय एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज बनी वुमन ऑफ़ द ईयर

भारतीय एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज ने गुरुवार को कहा कि प्रतिभा को संवारने और भारत में युवा लड़कियों को खेलों में शामिल होने और लैंगिक समानता के लिए लड़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए वर्ल्ड एथलेटिक्स द्वारा वुमन ऑफ द ईयर अवार्ड से समान्नित किया गया है। 2003 विश्व चैंपियनशिप की लंबी कूद में 44 वर्षीय कांस्य पदक विजेता को देश में लगातार बदलाव की आवाज बनने और युवा लड़कियों को उनके नक्शेकदम पर चलने के लिए मार्गदर्शन करने के लिए 'वर्ष की महिला' से सम्मानित किया गया। 


महिलाओं को किया प्रेरित 

वर्ल्ड एथलेटिक्स ने ट्विटर पर लिखा, "वर्ल्ड एथलेटिक्स अवार्ड्स में इस साल की वुमन ऑफ द ईयर का ताज पहनाए जाने पर अंजू बॉबी जॉर्ज को बधाई, "भारत में खेल को आगे बढ़ाने के उनके प्रयासों के साथ-साथ और अधिक महिलाओं को उनके नक्शेकदम पर चलने के लिए प्रेरित करना उन्हें इस वर्ष के पुरस्कार के योग्य प्राप्तकर्ता से अधिक बनाता है। भारत के पूर्व अंतरराष्ट्रीय लंबी कूद स्टार अभी भी खेल में सक्रिय रूप से शामिल हैं। 2016 में, अंजू ने युवा लड़कियों के लिए एक प्रशिक्षण अकादमी खोली, जिसने पहले ही विश्व U20 पदक विजेता बनाने में मदद की है। 

युवा लड़कियों को सक्षम और सशक्त बनाया जा सके 

लैंगिक समानता के लिए एक निरंतर आवाज उठानी वाली व खेल के भीतर भविष्य के नेतृत्व की स्थिति के लिए स्कूली छात्राओं को भी सलाह देती है। अंजू ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि वह 'विश्व एथलेटिक्स द्वारा वुमन ऑफ द ईयर से सम्मानित होने के लिए वास्तव में विनम्र और सम्मानित महसूस कर रही हैं। "हर रोज जागने और खेल को वापस देने से बेहतर कोई एहसास नहीं है, जिससे युवा लड़कियों को सक्षम और सशक्त बनाया जा सके! मेरे प्रयासों को पहचानने के लिए धन्यवाद।