जघन्य अपराधी राजेश गुलाटी जेल से आना चाहता है बाहर, पत्नी के किए थे 72 टुकड़े

देहरादून का सबसे चर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड में सलाखों में के पीछे अपनी सजा काट रहा राजेश गुलाटी जेल से आना चाहता है बाहर

जघन्य अपराधी राजेश गुलाटी जेल से आना चाहता है बाहर, पत्नी के किए थे 72 टुकड़े

देहरादून का सबसे चर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड में सलाखों में के पीछे अपनी सजा काट रहा राजेश गुलाटी ने हाईकोर्ट में अंतरिम जमानत प्रार्थना पत्र पेश किया है। इस पर हाईकोर्ट ने सरकार से जवाब मांगने के साथ ही दस दिनों के अंदर आपत्ति दर्ज करने के लिए कहा है। अब मामले की अगली सुनवाई 7 जुलाई को तय की गई है। जानकारी के अनुसार हत्या के दोषी राजेश गुलाटी ने हाईकोट्र से मेडिकल आधार पर शॉर्ट टर्म बेल की मांग की है. राजेश गुलाटी ने हाईकोर्ट में अपने अस्वस्‍थ्य होने की बात कही है और इलाज के लिए जमानत की मांग की है। 


शव को रखता था डीप फ्रीजर में 

17 अक्टूबर 2010 में राजेश गुलाटी ने अपनी पत्नी अनुपमा गुलाटी की निर्मम हत्या को अंजाम दिया। अपने अपराध को बचाने के लिए राजेश ने अनुपमा के शव को 72 टुकड़े किए थे। इसके बाद राजेश उन टुकड़ों को डीप फ्रीजर में डाल कर रखता था और रात के समय में एक एक कर के उन टुकड़ों को जंगलों में फेकता था। वहीं सब अनुपमा के और बच्चों से किसी तरह का संपर्क ना होने पर 12 दिसम्बर 2010 को अनुपमा का भाई दिल्ली से देहरादून पहुंचा तो इस हत्याकांड का खुलासा हुआ और शव देख सब भौचक्के रह गए। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया जिसके बाद देहरादून कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की तो कोर्ट ने राजेश गुलाटी को 1 सितम्बर 2017 को आजीवन कारावास की सजा सुना दी और 15 लाख रुपये का जुर्माना भी कोर्ट ने लगा दिया. कोर्ट ने आपने आदेश में 70 हजार राजकीय कोष में जमा करने व शेष राशि उसके बच्चो के बालिग होने तक बैंक में जमा कराने के आदेश दिए थे। कोर्ट ने इस घटना को जघन्य अपराध की श्रेणी में माना था। 

लव मैरिज बनी मर्डर स्टोरी 

राजेश गुलाटी पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर था। उसने 1999 अनुपमा से लव मैरिज की थी। लेकिन शादी पनपने के बजाय शादी झगड़े की जड़ पकड़ती चली गई। अनुपमा राजेश के हाथों पिटती भी रही। लेकिन फिर एक दिन उसकी जिंदगी में ऐसा कला अँधेरा आया की जिसके बारे खुद अनुपमा ने नहीं सोचा था। हमेशा की तरह लड़ाई झगड़ा होते होते राजेश ने अनुपमा को धक्का दिया जिससे अनुपमा को बेड के कोने से चोट लग गई इसी का फायदा उठाते हुए राजेश ने अनुपमा का मुंह तकिए से दबा कर उसकी हत्या कर दी।