हरीश रावत सिद्धांतों से ऊपर नहीं: इंदिरा हृदयेश

वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदयेश ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर साधा निशाना पार्टी में जो नियम बने हैं, वह सभी पर लागू होते हैं।

हरीश रावत सिद्धांतों से ऊपर नहीं: इंदिरा हृदयेश

विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर शनिवार आज दिल्ली में होने वाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक से पूर्व कांग्रेस की वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदयेश ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा की हरीश पार्टी के सिद्धांतों से ऊपर नहीं है। उनके कहने या समझने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। पार्टी में जो नियम बने हैं, वह सभी पर लागू होते हैं।


शुक्रवार को बढ़ती महंगाई और पेट्रोल डीजल के दामों हो रही बढ़ोत्तरी के चलते अलग अलग राज्य के कांग्रेस नेताओं ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया था। वहीं हल्द्वानी में प्रदर्शन के दौरान मीडिया ने इंदिरा हृदयेश से चुनाव अभियान समिति की कमान हरीश रावत को सौंपे जाने के सवाल पूछे तो उन्होंने दो टूक बात कह कर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की उन्होंने कहा कि हरीश रावत उत्तराखंड कांग्रेस के बड़े नेता हैं, उन्हें कोई भी दायित्व दिया जा सकता है। लेकिन चुनाव से पूर्व चेहरा घोषित करने के सवाल पर इंदिरा निशाना साधने से नहीं चूकीं।


उन्होंने आगे कहा कि ऐसा किसी के चाहने या समझने से नहीं होता है। हरीश रावत यदि ऐसा कहते हैं या सोचते हैं तो यही उनकी व्यक्तिगत राय हो सकती है। उनके कहने या चाहने से कुछ नहीं होगा। पार्टी के दूसरे नेता न तो ऐसा सोचते हैं और न ही चाहते हैं। कांग्रेस पार्टी की अपनी एक व्यवस्था रही है। जब बहुमत आ जाता है, तभी सब सदस्य पार्टी नेता चुनते हैं। इंदिरा ने कहा कि हरीश भी इन्हीं नियमों से बंधे हैं। उन्हें भी वही मानना पड़ेगा, जो पार्टी का आदेश होगा। इंदिरा ने फिर दोहराया कि पार्टी में किसी के व्यक्तिगत रूप से चाहने या न चाहने से कुछ नहीं होता है। 

आज होगी दिल्ली में बैठक

कांग्रेस प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव दिल्ली में शनिवार को उत्तराखंड कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की बैठक लेंगे। बैठक कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, पार्टी प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हहृयेश, पूर्व पार्टी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय आदि भाग ले सकते हैं। बैठके बारे में हरीश रावत ने बताया कि उन्हें पार्टी प्रभारी की ओर से निर्देश प्राप्त हुए हैं। बैठक में मीडिया पॉलिसी और सोशल मीडिया के बारे में बातचीत होगी।