हैप्पी बर्थडे: हमसबको याद आते है ऋषि, रणबीर को घोड़ी चढ़ते हुए देखना चाहते थे: नीतू कपूर

दो साल तक कैंसर से जंग लड़ने के बाद पिछले साल ऋषि कपूर का निधन हो गया था। वही आज कपूर परिवार उनका जन्मदिन मना रही है।

हैप्पी बर्थडे: हमसबको याद आते है ऋषि, रणबीर को घोड़ी चढ़ते हुए देखना चाहते थे: नीतू कपूर

दो साल तक कैंसर से जंग लड़ने के बाद पिछले साल ऋषि कपूर का निधन हो गया था। वही आज कपूर परिवार उनका जन्मदिन मना रही है। हाल ही में एक इंटरव्यू में एक्ट्रेस नीतू कपूर ने ऋषि कपूर की ख़ास दिली इच्छाओं का खुलासा किया है। नीतू ने बताया की ऋषि की आखिरी इच्छा थी अपने बेटे रणबीर को घोड़ी पर चढ़ते देखने की। नीतू कपूर ने कहा कि ऋषि कपूर अपने बेटे रणबीर कपूर की शादी देखना चाहते थे। रणबीर को दूल्हा बनते देख और घोड़ी चढ़ते देख ऋषि की सबसे बड़ी चाहत थी। जिसमें रणबीर को पेशावरी परंपरा के अनुसार कपड़े पहने, घोड़े पर सवार चाहते थे। 


देखना चाहते थे पेशावरी परंपरा 

ऋषि कपूर ने 1980 में नीतू सिंह से शादी थी इस जोड़े के दो बच्चे हैं रणबीर कपूर, और बेटी, रिद्धिमा कपूर साहनी। रणबीर फिलहाल एक्ट्रेस आलिया भट्ट के साथ रिलेशनशिप में हैं। रिद्धिमा ने बिजनेसमैन भरत साहनी से शादी की है और उनकी एक बेटी समारा है। द क्विंट के साथ एक इंटरव्यू में, नीतू ने ऋषि की इच्छाओं के बारे में बात की उन्होंने कहा की ऋषि चाहते थे की रणबीर अपनी शादी में पेशावरी परंपरा में एक पन्ना और एक ब्रोच के साथ पगड़ी पहने हुए देखना चाहते है। 


आज ऋषि होते तो मुझे यकीन है की वह नया सूट पहनते 

नीतू ने कहा कि उनकी दूसरी इच्छा रिद्धिमा, रणबीर और ऋषि-नीतू के लिए तीन अलग-अलग अपार्टमेंट के साथ उनके कृष्णा राज हाउस को पुनर्विकास और पूर्ण देखना था। उन्होंने यह भी कहा कि वह हर दिन साइट का दौरा करेंगे, कोविड -19 होने तक मिनट के विवरण की निगरानी करेंगे। इस शनिवार को ऋषि कपूर 69वा जन्मदिन है। नीतू ने बताया अगर आज ऋषि होते तो मुझे यकीन है की वह हमेसा की तरह नया सूट पहनते और तैयार होने में पुरे दो घंटे लगाते जबकि मुझे सिर्फ एक घंटा लगता। ऋषि को सारे रंग पसंद थे आज भी उनकी अलमारी में नए सूट टैग के साथ पड़े हुए है। वो जूतों के दीवाने थे। 

हम सभी को याद आते है 

इससे पहले दिन में, नीतू ने एक पोस्ट साझा किया और ऋषि के जन्मदिन पर एक तस्वीर भी शेयर की उन्होंने कैप्शन लिखा, "मैंने एनवाईसी में अपने पिछले कुछ दर्दनाक वर्षों के दौरान ऋषि जी से बहुत कुछ सीखा है हमने कैसे जश्न मनाया जब उनके रक्त की गिनती अधिक थी। हमने खरीदारी की, खाना आर्डर किया हंसते हुए भोजन किया, हम बस घर पर टीवी देखते रहे क्यूंकि इन क्षण में उम्मीद थी कि कीमोथेरेपी के अगले दौर में वह बेहतर होगा। आशा और मजबूत होना ही उसने मुझे सिखाया है .. प्रत्येक दिन का मूल्य .. हम सभी को आज उसकी याद आती है !!! मैं उसकी कल्पना कर सकती हूं कि वह अपने 69वें जन्मदिन के लिए कितना उत्साहित होता !! मुझे यकीन है कि वह वहां अपने परिवार के साथ जश्न मना रहे हैं जन्मदिन मुबारक कपूर साब! उन्होंने अपने आखिरी साल का अधिकांश समय नीतू के साथ अमेरिका में बिताया था, जहां उनका इलाज हुआ था।