ढाई साल की मासूम को दबोच कर भागा गुलदार माता पिता का हुआ बुरा हाल

पिथौरागढ़ में एक मासूम के साथ दर्दनाक हादसा मुंह तले दबा कर ले गया गुलदार

ढाई साल की मासूम को दबोच कर भागा गुलदार माता पिता का हुआ बुरा हाल

उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वालों को जंगली जानवरों का डर बना रहता है,और इसी के चलते पिथौरागढ़ में एक मासूम के साथ दर्दनाक हादसा हो गया है। मासूम बच्ची अपने माता पिता के साथ हाथ पकड़ती चली आ रही है तभी वहां दबे पाँव गुलदार आ गया और बच्ची को मुंह तले दबा कर भाग गया। ढाई साल की बच्ची का कोई अभी तक अता पता नहीं चल पाया है बच्ची के माता पिता खौफ से सदमे में है। 

पिथौरागढ़ में गंगोलीहाट ब्लॉक के मुख्यालय से 10 किलोमीटर दूर जरमाल गांव के छाता तोक के निवासी विकास बहादुर अपनी पत्नी और अपने ढाई साल की मासूम बच्ची रिया के साथ रहते हैं। विकास बहादुर मूल रूप से नेपाल के निवासी हैं। हाल ही में वे अपनी पत्नी और अपनी बेटी के साथ पानी लेकर आ रहे थे। रिया अपनी मां का हाथ पकड़कर चल रही थी। दोनों अपने घर से तकरीबन 10 मीटर की दूरी पर थीं। जबकि विकास उन से 20 मीटर की दूरी पर थे। तभी अचानक ही वहां पर एक गुलदार आ धमका और बच्ची को झपट ले गया। 


जब तक कोई कुछ समझ पाता तबतक गुलदार मासूम रिया को अपने जबड़े में दबोच कर जंगल की ओर भाग गया। इसके बाद वहां पर हड़कंप मच गया। शोरगुल सुनकर ग्रामीण भी वहां पर इकट्ठा हुए और उन्होंने वन विभाग को हादसे के बारे में सूचित किया जिसके बाद वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। जानकारी मिलने पर वन रेंजर मनोज, वन कर्मी दीवान सिंह अपनी टीम के साथ घटनास्थल के लिए रवाना हुए और ग्राम प्रधान पुष्कर सिंह के नेतृत्व में ग्रामीण भी बच्ची को ढूंढने में जुटे हुए हैं पर अभी तक बच्ची का कुछ भी पता नहीं लग पाया है।