गणेश चतुर्थी स्पेशल: क्यों मनाते है गणेश चतुर्थी, महाभारत काल से जुड़े क्या है राज

कल यानी दस सितम्बर देश भर में गणेश चतुर्थी का श्री गणेश हो जाएगा और महारष्ट्र से लेकर देश के विभिन्न राज्यों में बाप्पा विराजमान होंगे।

गणेश चतुर्थी स्पेशल: क्यों मनाते है गणेश चतुर्थी, महाभारत काल से जुड़े क्या है राज

कल यानी दस सितम्बर देश भर में गणेश चतुर्थी का श्री गणेश हो जाएगा और महारष्ट्र से लेकर देश के विभिन्न राज्यों में बाप्पा विराजमान होंगे। वही गणेश जी को देवों सबसे प्रथम स्थान दिया गया है वही साल की भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को बेहद खास माना जाता है कहते मान्यता है की भाद्रपद में भगवान गणेश का जन्म हुआ था। उनके जन्मदिन को दस दिनों तक उत्सव के रूप में मनाया जाता है। वही भारत में कुछ ऐसे भी राज्य है जो गणपति को मानते है जानते है लेकिन गणेश चतुर्थी और उनके घर आने मान्यताओं को शायद नहीं जानते लेकिन आज हम बताएँगे आखिर क्यों मानते है गणेश चतुर्थी। 

क्या कहती है प्रचलित प्राचीन कथा

कहते है महाभारत को गणेश जी ने लिखा था वेदव्यास के कहने पर वही उनका यह लेखन दस दिनों तक चलता रहा। वही महाभारत को लिखने में गणेश जी ने दिन रात एक कर दिया था इस कार्य के दौरान गणपति के शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने के लिए महर्षि वेदव्यास जी ने उनके शरीर पर मिट्टी का लेप कर दिया था। जब गणेश जी ने दस दिन में महाभारत पूर्ण रूप से लिख ली और वेदव्यास जी ने गणेश जी थकावट देखकर उन्हें अपने कुटिया में रहने का इंतजाम कर दिया और दस दिनों तक गणेश जी की सेवा व पूजा अर्चना करते रहे। इन दस दिनों में वेदव्यास ने गणेश जी के लिए उनके मन पसंद पकाएं बनाएं और उन्हें खिलाया। तब से यह प्रथा चली आ रही है। इसलिए भक्तजन गणेश जी को अपने घर में दस दिन तक अपने घरों में रखते है और इन दस दिनों तक बाप्पा की सेवा सत्कार कीर्तन भजन करते है वही दस दिनों के बाद बाप्पा को विसर्जन कर दिया जाता है। 

मुंबई में गणेश उत्सव पर रोक 

इस उत्सव को सबसे ज्यादा महारष्ट्र में मनाया जाता है माना जाता है की लालबागचा के राजा के नाम से प्रसिद्ध बाप्पा के दर्शन को लाखों की भीड़ में एकत्र हो जाती है वही लालबागचा के राजा यानी गणपति बाप्पा के दर्शन हो जाने से खुद को भाग्यशाली समझते है। वही मुंबई के सिद्धि विनायक में इस पर्व को धूमधाम से मनाया जाता है। मुंबई में कोविड -19 की स्थिति को देखते हुए, शहर की पुलिस ने आगामी गणेश चतुर्थी उत्सव के बड़े पैमाने पर समारोहों पर रोक लगा दी है। गुरुवार को जारी एक आदेश के अनुसार भारत की आर्थिक राजधानी में 10 से 19 सितंबर तक सीआरपीसी की धारा 144 लागू रहेगी।