सड़क कटिंग के दौरान पहाड़ी से गिरे मलबे में दबी पांच महिलाएं

उत्तरकाशी जिले के विकास खंड मोरी के फिताड़ी गांव में मनरेगा योजना के तहत सड़क काटने के दौरान पहाड़ी से गिरे मलबे में पांच महिलाएं दब गईं

सड़क कटिंग के दौरान पहाड़ी से गिरे मलबे में दबी  पांच महिलाएं
उत्तरकाशी जिले के विकास खंड मोरी के फिताड़ी गांव में मनरेगा योजना के तहत सड़क काटने के दौरान पहाड़ी से गिरे मलबे में पांच महिलाएं दब गईं। हादसे में घायल एक महिला ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) मोरी ले जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया। अन्य सभी को पीएचसी मोरी में प्राथमिक उपचार दिया गया। गंभीर रूप से घायल तीन महिलाओं को हेलीकॉप्टर से हायर सेंटर और एक सामान्य घायल महिला को एंबुलेंस से रेफर किया गया है। 

गोविंद वन्यजीव विहार क्षेत्र के फिताड़ी गांव में बुधवार की सुबह गांव की सूरी देवी, कस्तूरी देवी, सुशीला, विपिना व राजेंद्री मनरेगा योजना के तहत सड़क काट रहे थे, तभी पहाड़ी से गिरे मलबे में दब गए। घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय प्रशासन ने एसडीआरएफ, राजस्व कर्मियों समेत 108 सेवाओं को मौके पर भेजा, लेकिन तब तक ग्रामीणों ने किसी तरह पांचों महिलाओं को मलबे से बाहर निकाला। इसके बाद सभी को एंबुलेंस से पीएचसी मोरी भेजा गया, लेकिन इस दौरान गंभीर रूप से घायल सूरी देवी (30) पत्नी विविधा सिंह की रास्ते में गांव जाखोल के पास मौत हो गई। 


अन्य सभी घायलों का प्राथमिक उपचार किया गया। घटना की सूचना पर क्षेत्रीय विधायक दुर्गेश्वर लाल हेलीकॉप्टर से मोरी पहुंचे, जहां से गंभीर रूप से घायल कस्तूरी देवी, सुशीला व विपीना को हेलीकॉप्टर से हायर सेंटर तथा सामान्य घायल राजेंद्री को एंबुलेंस से रेफर कर दिया गया है. विधायक ने कहा कि गंभीर रूप से घायल महिलाओं को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया है।