शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय की बैठक खेल नीति योजना के माध्यम से खिलाडियों को देंगे लाभ

शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय ने विधान सभा स्थित कार्यालय कक्ष में आनलाइन बैठक में अटल उत्कृष्ठ विद्यालय की समीक्षा की

शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय की बैठक खेल नीति योजना के माध्यम से खिलाडियों को देंगे लाभ

प्रदेश के विद्यालयी शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय ने विधान सभा स्थित कार्यालय कक्ष में आनलाइन बैठक में अटल उत्कृष्ठ विद्यालय की समीक्षा की। इस बैठक के दौरान उन्होंने बैठक में कहा अटल उत्कृष्ठ विद्यालयों के प्रति विश्वास बढ़ाने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। इस परियोजना का द्वितीय फेज भी प्रारम्भ कर दिया जाएगा। 


इसके अन्तर्गत जितने भी माध्यमिक स्कूल सीबीएससी के मानक को पूरा करते हैं, उन्हें शामिल किया जाएगा। इनसे सम्बन्धित विद्यालयों में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई की जाएगी, इसके लिए शिक्षा विभाग में अंग्रेजी माध्यम में दक्ष शिक्षकों का चयन किया जाएगा। इससे संबंधित दुर्गम, अति दुर्गम क्षेत्र में सेवा करने वालों की सेवा एक वर्ष के स्थान पर दो-गुना गणना की जाएगी। 


उन्होंने कहा की प्रदेश खेल के लिए जाना जाए इसी नाते खेल के एसोसिएशन, रिटायर्ड खिलाडी व वर्तमान खिलाडी के सुझाव से खेल निति योजना बनाई है कोरोना के समय इस योजना पर हम कार्य नहीं कर पाए लेकिन अब इस योजना को कैबिनेट से प्रस्ताव मिल चूका है। हमने इस योजना को लेकर मुख्यसचिव को सूचित किया है की अगली बैठक में हम इस योजना पर चर्चा करेंगे जिसमे खेल विशेषज्ञ बताएंगे। किस तरह का खेल नीती का पाठ है उन्हें हम कैसे अलग अलग लागू करे जिसके लाभ प्रदेश के सभी खिलाडियों को मिल सके।


 बैठक में अरविन्द पांडेय ने सीएम धामी को शुभकामनाएं दी साथ आभार व्यक्त किया। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने शैलेश मटियानी राज्य शैक्षिक पुरस्कार को लेकर बताया की 58 साल से अधिक आयु के शिक्षक इस पुरस्कार के लिए आवेदन नहीं कर सकेंगे। वहीं शिक्षकों की पुरस्कार के लिए कम से कम दस साल और प्रिंसिपल व प्रधानाध्यापक के लिए कम से कम 15 साल की सेवा अनिवार्य होगी।