उत्तराखंड में मनाया गया आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस

आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विभाग उत्तराखंड सरकार द्वारा आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस (International day for disaster risk reduction day) मनाया गया

उत्तराखंड में मनाया गया आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस

बुधवार आज उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विभाग उत्तराखंड सरकार द्वारा आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस (International day for disaster risk reduction day) मनाया गया। यह दिवस आपदाओं के प्रति सजगता, सतर्कता और उससे बचने के उपायों के बारे में आम जनमानस के बीच जनजागरूकता बढ़ाने हेतु मनाया जाता है। 

पैसिफ़िक में आयोजित हुआ कार्यक्रम 

उत्तराखंड के विभिन्न स्टेकहोल्डर्स को विभिन्न आपदाओं से जुड़े विषयों से अवगत कराने के लिए उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा डिजास्टर रेसिलिएंट उत्तराखंड  (आपदा सुरक्षित उत्तराखंड) विषय पर होटल पैसिफ़िक, देहरादून में एक कार्यशाला आयोजित की गई। इस कार्यशाला में उत्तराखण्ड राज्य में आपदा प्रबंधन से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर चर्चा हुई। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि राजेंद्र सिंह, सदस्य राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने NDMA द्वारा आपदा प्रबंधन हेतु लिए जा रहे निर्णयों की जानकारी दी। साथ ही उन्होंने नीति निर्धारण में सामाजिक प्रतिभागिता के महत्व पर बल दिया। 

प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा एवं बचाव के लिए जागरूकता लाने की सख्त जरूरत है

अंतर्रराष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस के अवसर पर सूबे के आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड को आपदा सुरक्षित राज्य बनाने केलिए आम लोगों में प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा एवं बचाव के लिए जागरूकता लाने की सख्त जरूरत है। इसके लिए एक विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जायेगी। जिसके अंतर्गत राज्य, जिला एवं ब्लॉक स्तर पर विभागीय ढ़ांचे का सृजन किया जाएगा। साथ ही स्थानीय स्तर पर जागरूकता अभियान चलाए जाएंगे। जिसके प्रथम चरण में युवक मंगल दलों, ग्राम प्रहरी एवं जन प्रतिनिधियों को आपदा से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। डॉ. रावत ने कहा कि राज्य में आपदा की संवेदनशीलता को देखते हुए राज्य विश्वविद्यालयों में आपदा प्रबंधन को एक विषय के रूप में शामिल किया जायेगा तथा उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के माध्यम से आपदा प्रबंधन पर सार्टिफिकेट एवं डिप्लोमा कोर्स संचालित किए जाएंगे। 
-डॉ. धनसिंह रावत, आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास मंत्री, उत्तराखंड सरकार।