आपदा प्रबंधन संगठन कर्मचारियों ने राज्य सरकार के खिलाफ दिया धरना

उत्तराखंड जिला आपदा प्रबंधन संगठन कर्मचारियों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर बाहर धरना दिया

आपदा प्रबंधन संगठन कर्मचारियों ने राज्य सरकार के खिलाफ दिया धरना

शनिवार आज उत्तराखंड जिला आपदा प्रबंधन संगठन कर्मचारियों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर जिला आपदा प्रबंधन कार्यकालय के बाहर धरना दिया। जैसा की उत्तराखंड में आएं दिन किसी ना किसी आपदा से सामना होता रहता है वही  जिला आपदा प्रबंधन संगठन हर आपदा मुश्किल घड़ी में बचाव कार्य करती है लेकिन राज्य सरकार से आपदा प्रबंधन की मांगों के अनुसार उन्हें लाभ नहीं दे पा रही है। जिसके चलते जिला आपदा प्रबंधन संगठन के कर्मचारियों को राज्य सरकार से गुहार लगानी पड़ रही है। 

चौबीस घंटे देते है सेवा


वही कर्मचारियों का समर्थन करते हुए समस्त उत्तराखंड मिनिस्ट्रीरियल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ के अधिकारी ने कहा की मैं इन कर्मचारियों का पूर्णरूप से इनका समर्थन करता हूँ। इन कर्मचारियों ने ना सिर्फ कोरोना काल में बल्कि दैवीय आपदा में अपना पूरा योगदान देते है। इस वर्ष भी आई भारी बारिशों के चलते भूस्खलन और आपदा के दौरान कर्मचारी बचाव कार्य में जुटे रहें। यह ना सिर्फ राज्य सरकार के साथ मदद करते बल्कि चौबीस घंटे अपनी सेवा देते है। 

सरकार की ओर से नहीं मिल रहा है लाभ

इनके कार्यों से निश्चित रूप से राज्य सरकार को फायदा पहुँचता है उन्होंने बताया की कर्मचारियों की मांग है की उनकी सेवा अवधि को विभागीय संविधा के अनुसार किया जाए। अधिकारी ने कहा जैसा की मेरे संज्ञान में आया है इनका चार बार पुर्नगठन हो चूका है लेकिन बावजूद इसके इन कर्मचारियों को किसी तरह का लाभ नहीं मिल रहा है। यह बेहद खेद जनक है और उत्तराखंड कलेक्ट्रेट संघ इनका समर्थन करता है और राज्य सरकार अपील करता है की इनकी मांगों को जल्द जल्द से पूरा किया जाए और इन्हे वार्ता के लिए बुलाया जाए।

प्रोत्साहन भत्ता 10000

मांगें गिनाते हुए कर्मचारियों ने विभाग में लंबे समय से सेवाएं दे रहे कार्मिकों का नियमितीकरण करने, जनपद में कार्य करने वाले कार्मिकों को उनकी परिस्थिति के हिसाब से अटैचमेंट देने, प्रोत्साहन भत्ता 10000 दिए जाने व आपदा प्रबंधन में काम करने वाले कर्मचारियों को पुलिस की भांति एक माह का अतिरिक्त वेतन देने देने सहित अन्य मांगों को लेकर शासन स्तर पर जरूरी कार्यवाही की मांग की है। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष देवेंद्र खत्री व प्रदेश महामंत्री मुंशी चौमवाल ने बताया कि आगे यदि सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं देती है तो उनका संगठन उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगा। धरनास्थल पर सर्वेश व्यास, अरविंद नेगी, केदार नेगी आदि मौजूद थे।