दिल्ली: 'देश के मेंटर' पहल के एम्बेसडर होंगे सोनू सूद, सीएम केजरीवाल ने की घोषणा

जाने माने एक्टर सोनू सूद और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को एक जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अभिनेता सोनू सूद स्कूली बच्चों के लिए दिल्ली सरकार की 'देश के मेंटर' पहल के एम्बेस

दिल्ली:  'देश के मेंटर' पहल के एम्बेसडर होंगे सोनू सूद, सीएम केजरीवाल ने की घोषणा

जाने माने एक्टर सोनू सूद और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को एक जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अभिनेता सोनू सूद स्कूली बच्चों के लिए दिल्ली सरकार की 'देश के मेंटर' पहल के एम्बेसडर होंगे, जिसके अगले महीने शुरू होने की संभावना है. केजरीवाल ने कहा ने कहा की इस पहल के तहत विभिन्न क्षेत्रों के अनुभवी लोगों को समय-समय पर बातचीत के माध्यम से पढ़ाई, करियर और पेशे पर सरकारी स्कूलों में नामांकित बच्चों के समूहों का मार्गदर्शन और प्रोत्साहित करेंगे सोनू सूद.  

एम्बेसडर बनना मेरे लिए सम्मान की बात है

सोनू सूद ने कहा, "हमने दिल्ली में शासन के मॉडल को देखा है और उस मॉडल के तहत पूरी स्कूल प्रणाली में अच्छी ग्रोथ देखी गई है. इस तरह की पहल के लिए एम्बेसडर बनना मेरे लिए सम्मान की बात है. ऐसे हजारों स्कूली बच्चे हैं जो प्रतिभाशाली हैं, लेकिन मार्गदर्शन पाने के लिए पर्याप्त विशेषाधिकार प्राप्त नहीं हैं, खासकर ऐसे समय में जब लोगों ने चिकित्सा और इंजीनियरिंग की पढ़ाई को केवल दो प्रमुख विकल्पों के रूप में देखना शुरू कर दिया है. 

राजनीति में आने की कोई योजना नहीं 

हाल ही में हुए लॉकडाउन और लॉकडाउन के दौरान लोगों को हुई कठिनाइयों ने बच्चों की शिक्षा के महत्व और उन्हें अपने करियर को आकार देने में मदद करने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला. पूछे जाने पर, सूद ने कहा कि उनकी किसी भी राजनीतिक दल में शामिल होने की कोई योजना नहीं है, हालांकि वह सक्रिय रूप से अपने सामाजिक कार्यों को जारी रखेंगे, भले ही उन्होंने केजरीवाल और शासन के दिल्ली मॉडल की प्रशंसा की. 

सोनू सूद ने ऐसे काम किया जो सरकारें भी नहीं कर पाईं 

केजरीवाल ने कहा, 'आज हमने करीब दो घंटे तक बातचीत की और इस तरह की बातचीत राजनीति से परे है। हम सभी ने देखा है कि सूद ने लोगों, विशेषकर प्रवासी श्रमिकों की मदद करने के मामले में लॉकडाउन के दौरान कैसे काम किया है. उन्होंने ऐसे काम किए जो सरकारें भी नहीं कर पाईं. पहल के राजदूत के रूप में उनसे बेहतर कोई विकल्प नहीं था. हमने पिछले एक साल में इस पहल को प्रायोगिक (experimental)  तौर पर अंजाम दिया है और यह अच्छा साबित हुआ है, यह अब उचित लॉन्च के लिए तैयार है. सूद ने कहा कि वह इस पहल के तहत स्कूली बच्चों के एक समूह को भी सलाह देंगे.