दिल्ली दंगे के मुख्य दोषी तीनों छात्रों को मिली जमानत इस फैसले को एक मिसाल नहीं माना जाएगा: SC

दिल्ली दंगे में पाए गए मुख्य दोषी देवांगना कलिता, नताशा नरवाल और आसिफ इकबाल तन्हा की जमानत पर आज हुई सुनवाई

दिल्ली दंगे के मुख्य दोषी तीनों छात्रों को मिली जमानत इस फैसले को एक मिसाल नहीं माना जाएगा: SC

दिल्ली दंगे में पाए गए मुख्य दोषी देवांगना कलिता, नताशा नरवाल और आसिफ इकबाल तन्हा की जमानत पर आज सुनवाई की गई। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से किया इनकार। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले को एक मिसाल नहीं माना जाएगा और न ही किसी अदालत के समक्ष पक्षकारों द्वारा इस पर भरोसा किया जाएगा। इस स्तर पर उत्तरदाताओं (आरोपी) की रिहाई में हस्तक्षेप नहीं किया जाएगा। यह अंतिम आदेश के अधीन होगा

सॉलिसीटर जनरल ने कहा,दिल्‍ली हाईकोर्ट ने जिस तरह से फैसला दिया है उसे देखने के बाद सभी मामले प्रभावित होंगे। इसलिए आदेश में रोक लगना चाहिए। अब जब कोर्ट ने तीनों छात्रों को बरी कर दिया है तो उन्‍हें बाहर ही रहने दीजिए. लेकिन हाईकोर्ट के इस फैसले को मिसाल के तौर पर आगे पेश नहीं किया जाएगा। असहमति और विरोध का मतलब लोगों की जान लेना नहीं होता। 

24 फरवरी 2020 को उत्तर-पूर्व दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून के समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसा भड़क गई थी, जिसने सांप्रदायिक हिंसा बढ़ गई थी। ऐसे में कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी तथा करीब  400 से ज्यादा घायल हुए थे। इन तीनों पर इनका मुख्य ‘‘साजिशकर्ता’’ होने का आरोप है।