पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह जी का निधन प्रदेश में तीन दिन का राजकीय शोक हुआ घोषित

हिमाचल प्रदेश के छह बार रह चुके मुख्यमंत्री व पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे वीरभद्र सिंह का आज तड़के 3:30 बजे निधन

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह जी का निधन प्रदेश में तीन दिन का राजकीय शोक हुआ घोषित

हिमाचल प्रदेश के छह बार रह चुके मुख्यमंत्री व पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे वीरभद्र सिंह का आज तड़के ३:३० बजे निधन हो गया। उनके निधन से पुरे प्रदेश व कांग्रेस में शोक की लहर दौड़ गई है। वीरभद्र जी दो बार कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे जिसके चलते उनका शिमला के आईजीएमसी में इलाज चल रहा था। सोमवार को उनकी तबियत ज्यादा खराब होने से उन्हें वेंटिलेटर में शिफ्ट कर दिया गया था। 

87 साल के वीरभद्र सिंह जी की मृत्यु की पुष्टि डॉ. जनक राज ने की उनके निधन के उपरांत  हिमाचल प्रदेश सरकार ने प्रदेश में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। इन तीन दिनों के दौरान प्रदेश में कोई भी बड़े आयोजन नहीं होंगे। वीरभद्र सिंह का जन्म 23 जून, 1934 को बुशहर रियासत के राजा पदम सिंह के घर में हुआ। वीरभद्र सिंह छह बार हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे। वीरभद्र सिंह यूपीए सरकार में भी केंद्रीय कैबिनेट मंत्री रहे थे। उनके पास केंद्रीय इस्पात मंत्रालय रहा। इसके अलावा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय भी रहा।

इस दुखद घटना पर प्रियंका गांधी ने दुःख प्रकट किया है - वीरभद्र सिंह की मृत्यु के बाद प्रियंका गांधी ने शोक व्यक्त करते हुए लिखा कि राजनीति में विशालकाय पर्वतों सा कद रखने वाले व देवभूमि हिमाचल को नई ऊंचाइयों पर ले जाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री और  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह के निधन से हम सबको एक अपूर्णीय क्षति हुई है। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें। विनम्र श्रद्धांजलि।

वीरभद्र सिंह जी को राजनीति में पंडित नेहरू जी लेकर आए थे इस बात का जिक्र कई बार मंच पर हुआ है। वही वीरभद्र जी लोकसभा के लिए वह पहली बार 1962 में चुने गए। उसके बाद 1967, 1971, 1980 और 2009 में भी चुने गए। वीरभद्र वर्ष 1983 से 1990, 1993 से 1998, 1998 में कुछ दिन तक तीसरी बार, फिर 2003 से 2007 और 2012 से 2017 में हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे।