दलित युवक ने की थी ब्राह्मण लड़की से लव मैरिज, युवक की हुई निर्मम हत्या

ज़माना कितना भी बदल जाएँ लेकिन ज़माना की सोच कभी कभी हम नहीं बदल पाते है।

दलित युवक ने की थी ब्राह्मण लड़की से लव मैरिज, युवक की हुई निर्मम हत्या

ज़माना कितना भी बदल जाएँ लेकिन ज़माना की सोच कभी कभी हम नहीं बदल पाते है। भारत चाँद तक पहुंच गया है नई आधुनिकता के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहा है लेकिन आज भी एक तरफ़ा जातिवाद का नारा लगाते रहते है। जातीवाद के आड़े आकर गोरखपुर निवासी अनीश कुमार चौधरी की 24  जुलाई को हत्या कर दी गई। 


अनीश कुमार चौधरी दलित वर्ग से थे और अनीश ने ब्राह्मण लड़की से प्रेम विवाह किया था। लोगों का कहना है की अनीश की पत्नी दीप्ती मिश्र के परिजन इस शादी से खुश नहीं थी और इस शादी के खिलाफ थे। वहीं हत्या के पीछे अनीश के परिजनों का कहना है इसके पीछे दीप्ती के परिजनों का हाथ है। 


उनका कहना है कि अनीश की पत्नी दीप्ति मिश्र के परिजन इस शादी से खुश नहीं थे। वहीं दीप्ति की मां का कहना है कि अनीश की हत्या में उनके परिवार का हाथ नहीं है। अनीश की हया के मामले में 17 लोग अभियुक्त बनाए गए हैं, जिनमें से चार लोगों को स्थानीय पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। 

ताबड़तोड़ हुआ था हमला 

घटना शनिवार 24 जुलाई सुबह दस बजे की है जब 35 वर्षीय अनीश अपने चाचा देवी दयाल के साथ घर जा रहे थे। अनीश ने एक बिल्डिंग मटेरियल सामान खरीदने के लिए दूकान के पास कार रोकी थी। इतने मौका लगते ही दो बाइक सवार बदमाश वहां पहुंचे और अनीश के ऊपर ताबड़तोड़ धारधार हथियार से हमला करने लगे अनीश के चाचा जैसे ही बिच बचाव करने आए बदमाशों ने उन्हें भी बुरी तरह घायल कर दिया। हालाकिं अस्पताल में इलाज के दौरान अनीश की मौत हो गई। 

ऐसे शुरू हुई थी लव स्टोरी 

अनीश और दीप्ति ने एक साथ पंडित दीन दयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय, गोरखपुर से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई की थी हालांकि दोनों के विषय अलग अलग थे, अनीश प्राचीन इतिहास और दीप्ति ने समाजशास्त्र से एमए किया था। कैंपस में हुई मुलाकातों के बीच अनीश और दीप्ति का चयन ग्राम पंचायत अधिकारी पद पर हो गया। दीप्ति बताती हैं कि नौकरी लगने के बाद उनकी अनीश से पहली मुलाकात नौ फ़रवरी 2017 को गोरखपुर स्थित विकास भवन में हुई थी. एक ही पद पर चयनित होने के बाद यूनिवर्सिटी कैंपस से शुरू हुआ मुलाक़ातों का सिलसिला बढ़ने लगा. साथ में प्रशिक्षण के दौरान दोनों और क़रीब आ गए।