2022 में प्रत्याशियों की वफादारी और जीतने के आधार पर टिकट देगी कांग्रेस

उत्तराखंड में अगले साल मार्च के महीने में विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने बीजेपी को घेरने और चुनावी रणनीति तैयार

2022 में प्रत्याशियों की वफादारी और जीतने के आधार पर टिकट देगी कांग्रेस

उत्तराखंड में अगले साल मार्च के महीने में विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने बीजेपी को घेरने और चुनावी रणनीति तैयार करने की कवायद शुरू कर दी है। इसी सिलसिले में कांग्रेस के ​वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा कि विधानसभा चुनाव 2022 में किन प्रत्याशियों को चुनाव का टिकट मिलेगा, यह उनकी वफादारी और जीतने की संभावना पर तय किया जाएगा। 

चुनावों के लिए रणनीति बनाने के लिए कांग्रेस के ‘चिंतन शिविर’ के दौरान बुधवार को रावत ने यह बात कही। इस शिविर में कांग्रेस के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष गणे​श गोदियाल और प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव समेत तकरीबन सभी बड़े ​नेताओं ने हिस्सा लिया। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर उत्तराखंड कांग्रेस में किए गए संगठनात्मक फेरबदल के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को चुनाव कैंपेन की कमान सौंपी गई। 

रावत ने साफ तौर पर कहा कि ‘जो नेता पार्टी के बेहिचक वफादार रहे हैं और जिनके जीतने के आसार ज़्यादा हैं, टिकट की दौड़ में उनका दावा सबसे मज़बूत होगा। रावत ने यह भी कहा कि कांग्रेस का चिंतन शिविर ‘समुद्र मंथन’ की तरह है, जिसमें से कुछ न कुछ महत्वपूर्ण ज़रूर बाहर निकलेगा। 


रोज़गार और केंद्र की नीतियां बनेंगी मुद्दा’

रावत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी जनता के बीच कई मुद्दे लेकर जाएगी. ‘पार्टी ज़रूरी चीज़ों के बढ़ते दामों, बेरोज़गारी, किसानों की बदहाली और केंद्र सरकार की गलत नीतियों के चलते आम जनजीवन के खस्ताहाल हो जाने जैसे मुद्दों पर पहले से ज़्यादा आक्रामक तेवर अपनाएगी। यह बात रावत ने तब कही जब शिविर में घोषणापत्र कमेटी के प्रभारी नवप्रभात और प्रवक्ता सूर्यकांत ने पार्टी के घोषणा पत्र के प्रमुख बिंदुओं को शिविर में बहस और बातचीत के लिए पेश किया।