बच्चों के वैक्सीन को मिली हरी झंडी सितंबर तक लगने के चांसेज़: ड़ॉ. गुलेरिया

कोरोना की तीसरी लहर को बच्चों के लिए घातक बताई गई है। दिल्ली एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने जानकारी साझा की है

बच्चों के वैक्सीन को मिली हरी झंडी सितंबर तक लगने के चांसेज़: ड़ॉ. गुलेरिया

कोरोना की तीसरी लहर को बच्चों के लिए घातक बताई गई है। दिल्ली एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने जानकारी साझा की है बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन सितंबर तक लांच की जा सकती है। वही भारत में अब तक 42 करोड़ से ज्यादा लोगों को कोरोना वैक्सीन लग चुकी है। सरकार ने इस साल के अंत तक 18 साल के ऊपर के सभी लोगों को वैक्‍सीन लगाने का लक्ष्‍य रखा है। 


ड़ॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया है की जाइडस कैडिला ने बच्‍चों की वैक्‍सीन का ट्रायल पूरा कर लिया है और उन्‍हें आपातकालीन इस्‍तेमाल के लिए मंजूरी का इंतजार है। भारत बायोटेक की ओर से बच्‍चों के लिए तैयार की गई कोवैक्सीन का ट्रायल भी अगस्त या सितंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए ट्रायल के तुरंत बाद ही वैक्‍सीन को हरी झंडी दिखा दी जाएगी। 

देश में अभी भी कोरोना की दूसरी लहर का असर जारी है हालाकिं कोरोना असर हल्का हो गया है लेकिन अभी भी कुछ आध मरीज सामने आ रहें है। पहली और दूसरी लहर से सबक लेने के बाद तीसरी लहर के लिए चेतवानी जारी कर दिया गया है। ऐसी रिपोर्ट भी सामने आई है, जिसके मुताबिक कोरोना की तीसरी लहर बच्‍चों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि बच्चों की कोरोना वैक्सीन संक्रमण की चेन तोड़ने की दिशा में अहम कदम साबित होगी।