चरणबद्ध तरीके से 1 जुलाई से चारधाम यात्रा आरंभ पंजीकरण, ई-पास व निगेटिव जांच रिपोर्ट अनिवार्य

एक जुलाई से चरणबद्ध तरीके से चारधाम यात्रा आरंभ होने वाली है, वहीं यात्रा आरंभ होने में महज दस दिनों का समय रह गए है।

चरणबद्ध तरीके से 1 जुलाई से चारधाम यात्रा आरंभ पंजीकरण, ई-पास व निगेटिव जांच रिपोर्ट अनिवार्य

एक जुलाई से चरणबद्ध तरीके से चारधाम यात्रा आरंभ होने वाली है। वहीं यात्रा आरम्भ होने में महज दस दिनों का समय रह गए है। फिलहाल यात्रा केवल चमोली, उत्तरकाशी व रुद्रप्रयाग जिलों के निवासियों के लिए खोली गई है। 11 जुलाई से अन्य जिलों के लिए यात्रा खोली जाएगी। कोविड नियमों का पालन करने के लिए गत वर्ष की तर्ज पर यात्रियों के लिए पंजीकरण, ई-पास और कोविड निगेटिव जांच रिपोर्ट की अनिवार्यता रहेगी। हालाकिं की कम समय को दृश्टिगत करते हुए श्रद्धालुओं के लिए स्वास्थ्य, बिजली, पेयजल, लोक निर्माण, शहरी विकास, पंचायती राज विभाग के पास व्यवस्था पूरी करने के लिए केवल दस दिनों का समय ही रह गया है। सीएम सरकार की ओर से सभी विभागों को 30 जून तक चारधामों में यात्रियों की सुविधा के लिए व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं। 

कारोबारियों को मिली राहत

चारधाम यात्रा आरम्भ होने से कारोबारियों में ख़ुशी की लहर क्यूंकि उनका मुख्य आर्थिक जीविका का मुख्य साधन पर्यटक है। पिछले 2 सालों से कोविड-19 के कारण चार धाम यात्रा स्थगित होने से हजारों लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया था .हालांकि, सरकार ने पर्यटन कारोबारियों को कुछ रियायतें भी दी हैं, लेकिन अब चार धाम यात्रा खोले जाने से कारोबारियों ने एक हद तक राहत की सांस ली है।