दूसरे बैंक के एटीएम से कैश निकलना हुआ महंगा, दो रुपये की बढ़ोत्तरी के साथ बढ़ा इंटरचेंज

एक अगस्त से एक और नया नियम लागू होने वाला है यह नियम डेबिट या क्रेडिट कार्ड के लिए है।

दूसरे बैंक के एटीएम से कैश निकलना हुआ महंगा, दो रुपये की बढ़ोत्तरी के साथ बढ़ा इंटरचेंज

एक अगस्त से एक और नया नियम लागू होने वाला है यह नियम डेबिट या क्रेडिट कार्ड के लिए है। दरअसल अगर अब डेबिट या क्रेडिट कार्ड को किसी अन्य एटीएम से पैसा निकलते है तो इसके लिए एक अगस्त से ज्यादा चार्ज देना होगा। भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई ने एक अगस्त से सभी बैंकों को अपने इंटरचेंज चार्ज में बढ़ोत्तरी की अनुमति दी है। 


पंद्रह से सत्रह रूपये हुआ इंटरचार्ज 

वही वर्तमान में बैंक हर फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन पर इंटरचेंज चार्ज के तौर पर 15 रुपये लेते हैं। अब एक अगस्त से दो रुपये की बढ़ोत्तरी के साथ ये चार्ज 17 रुपये हो जाएगा। यदि अगर नॉन-फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन की बात करें तो वर्तमान में इस पर 5 रुपये का इंटरचेंज चार्ज देना पड़ता है जो कि अब एक अगस्त से 6 रुपये हो जाएगा। 
आरबीआई के अनुसार एटीएम के रख-रखाव में होने वाले खर्चें में बढ़ोत्तरी के चलते ये फैसला लिया गया है साथ ही आरबीआई ने कहा है कि, "इंटरचेंज चार्ज के साथ ही इस से जुड़े अन्य टैक्स भी अलग से अदा करने पड़ेंगे."


हर महीने में पांच फ्री ट्रांजेक्शन 

आरबीआई ने कुछ नियमों में संशोधन भी किए है। संशोधित नियमों के में कहा गया है की अपने बैंक के एटीएम से हर महीने पांच फ्री ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। वहीं दूसरे बैंकों के एटीएम से ग्राहक मेट्रो सिटी में तीन और नॉन-मेट्रो सिटी में पांच फ्री एटीएम ट्रांजेक्शन कर सकते हैं. इसके बाद आपको हर ट्रांजेक्शन के लिए अतिरिक्त शुल्क चुकाना होगा। 

क्या होता है इंटरचेंज चार्ज

जब कोई कस्टमर क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से पेमेंट करता है तो इस पेमेंट को प्रोसेस करने वाले मर्चेंट के बैंक अकाउंट से ट्रांजेक्शन फीस ली जाती है। जब अपने अलावा किसी अन्य बैंक के एटीएम का इस्तेमाल करते हैं तो ऐसे में आपका बैंक उस दूसरे बैंक को इंटरचेंज शुल्क प्रदान करता है। इसी को इंटरचेंज चार्ज कहते हैं। जून 2019 में आरबीआई द्वारा गठित एक समिति के सुझावों के आधार पर ये बदलाव किए गए. 


2022 में फिर बदलेंगे नियम 

आरबीआई के निर्देशों के अनुसार 1 जनवरी, 2022 से ट्रांजेक्शन चार्ज के तौर पर नई संशोधित दरें लागू हो जाएंगी। एटीएम से तय लिमिट से ज्यादा बार पैसे निकालने के बाद हर ट्रांजेक्शन के लिए बैंक ग्राहक से 20 रुपये का अतिरिक्त शुल्क ले सकेगा। वहीं अगर आप फ्री ट्रांजेक्शन के बाद किसी अन्य बैंक के एटीएम का इस्तेमाल करते हैं तो इस के लिए 1 जनवरी, 2022 से आपको 21 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन के हिसाब से इंटरचेंज चार्ज का भुगतान करना होगा