बॉलीवुड हमारे मुल्क को बदनाम करने का काम करती है: मेहविश हयात

पड़ोसी मुल्क पकिस्तान की जानी मानी एक्ट्रेस मेहविश हयात का इस समय इंडिया मीडिया और बॉलीवुड को लेकर एक आलोचनात्मक पोस्ट सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड कर रहा है।

बॉलीवुड हमारे मुल्क को बदनाम करने का काम करती है: मेहविश हयात

पड़ोसी मुल्क पकिस्तान की जानी मानी एक्ट्रेस मेहविश हयात का इस समय इंडिया मीडिया और बॉलीवुड को लेकर एक आलोचनात्मक पोस्ट सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड कर रहा है। मेहविश ने खुद तो पकिस्तान में जमकर अपने पहनावे पर ट्रोल और लिप्स सर्जरी अन्य गतिविधियों पर ट्रोल होती रहती है। लेकिन यहाँ वो अपनी आलोचनाओं में बॉलीवुड को सलाह दे रही है। 

वही हाल की बात की जाए चौदह अगस्त को मेहविश ने पकिस्तान स्वतंत्र दिवस मानते हुए अपने मुल्कवासियों को बधाई दी जिसपर वो अपनी ब्रा कलर को लेकर ट्रोल हो गई। जिसपर मेहविश ने ऐसी तूच मानसिकता पर कहा, 'संयुक्त प्रयास और हमारे भाग्य में विश्वास के साथ ही हम अपने सपनों के पाकिस्तान को हकीकत में बदलने में सक्षम होंगे। 


झंडा फहराना काफी नहीं है, अगर हम वास्तव में इस देश का सम्मान करते हैं, तो हमें अवतार लेने की जरूरत है हमारे पूर्वजों के आदर्श स्वतंत्रता दिवस की। उन्होंने भद्दे कमैंट्स करने वालों से कहा मेरी ब्रा कलर पर बहस करने वाले लोग अपनी मानसिकता दिखा रहे है की वह मानसिक रूप से कितने बीमार है मेरी ब्रा का कलर क्या है इससे आपका क्या लेना देना 

उन्होंने ओस्लो में नॉर्वे के प्रधान मंत्री, एर्ना सोलबर्ग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बॉलीवुड फिल्मों पर निशाना साधा था जिसपर उन्होंने कहा था की बॉलीवुड हमारे मुल्क को बदनाम करने का काम करती है। उन्होंने कहा फिल्म एक शक्तिशाली उपकरण है जो लोगों का दिमाग और व्यवहार बदलने में मददगार साबित हो सकती है। बता दे की मेहविश को 2019 में इस कार्यक्रम के दौरान प्राइड ऑफ परफॉर्मेंस पुरस्कार दिया गया था।


उन्होंने आगे कहा मुझे पूरा विश्वास है कि हॉलीवुड फिल्मों और कार्यक्रमों ने मेरे देश को बदनाम करने और हमें पिछड़े आतंकवादियों के रूप में दिखाते है जो यह लोगों पर बुरा प्रभाव डालते है। वहां के लोग पाकिस्तान के बारे में क्या सोचते हैं, इसने बहुत प्रभावित किया है। 


उन्होंने मेरे देश की एक ऐसी छवि बनाई है जिसे मैं निश्चित रूप से नहीं पहचानती इन फिल्मों ने, दूसरों के साथ मिलकर इस्लामोफोबिया को बढ़ावा दिया है। हमारे पड़ोसियों के पास दुनिया के सबसे बड़े फिल्म उद्योगों में से एक है और ऐसे समय में जहां वे हमें एक साथ लाने के लिए अपनी शक्ति का उपयोग कर सकते थे, वे क्या करते हैं? वे अनगिनत फिल्में बनाते हैं जो पाकिस्तानियों को खलनायक के रूप में दिखाते हैं।


वही मेहविश हयात पकिस्तान की कई फिल्मे और ड्रामे में काम कर चुकी है मेरे कातिल, दिललगी, इश्क़ में कभी कभी, मैं पंजाब नहीं जाउंगी आदि। अभिनेत्री को 2019 में पाकिस्तान के सर्वोच्च सम्मान तमगा-ए-इम्तियाज से सम्मानित किया गया था। हालांकि, घर वापस आने पर, कई लोगों ने उनकी आलोचना की और इतने बड़े सम्मान के लिए उनकी साख पर सवाल उठाया।