विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारियों में जुटी भाजपा, जाने किसपर रहेगा फोकस

आठ माह बाद होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने शुरू दी रणनीति

विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारियों में जुटी भाजपा, जाने किसपर रहेगा फोकस

आठ माह बाद होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने रणनीति की तैयारी शुरू कर दी है। इस क्रम में कर्मचारी, किसान, प्रवासी, महिला और एससी-एसटी वर्ग पर खास फोकस करने का निश्चय किया गया है। इन वर्गों को लुभाने के लिए पार्टी का प्रांतीय नेतृत्व इन दिनों मंथन में जुटा हुआ है।

कठनाइयों का करना पड़ रहा है सामना 

उत्तराखंड में वर्ष 2017 में दमदार बहुमत हासिल करने वाली भाजपा के सामने वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में भी ऐसा ही प्रदर्शन दोहराने की चुनौती है। लेकिन इस बार परिस्थितियां भी एकदम से परिवर्तित हुई है। प्रदेश सरकार और भाजपा संगठन के नेतृत्व परिवर्तन हो चुका है। साथ ही कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के कारण प्रदेश कठनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।  ऐसे में सरकार और संगठन दोनों की परीक्षा विधानसभा चुनाव में होनी है। इस सबको देखते हुए भाजपा नेतृत्व फूंक-फूंककर कदम बढ़ा रहा है। 

नाराज रहता है कर्मचारी वर्ग 

वहीं इस बार मुख्य फोकस कर्मचारी वर्ग पर रहेगा, क्योंकि ऐसा माना गया है की भाजपा के शासनकाल में कर्मचारी वर्ग अक्सर उनके कार्यशैली से नाराज रहते है। इस धारणा को दूर करने लिए कर्मचारियों से पार्टी नेतृत्व निरंतर संवाद करने के साथ ही कुछ पदाधिकारियों को यह जिम्मेदारी सौंप सकता है। यही नहीं, कृषि कानूनों को लेकर मैदानी क्षेत्र के किसानों में नाराजगी भी है, जिसे दूर करने को रणनीति तैयार  की जा रही है। इसी तरह की रणनीति महिलाओं, कोरोना संक्रमण के कारण देश के विभिन्न हिस्सों से गांव लौटे प्रवासियों के अलावा अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लिए भी तैयार की जा रही है।