बिहार: स्कूल में पढ़ने वाले दो बच्चों के खातों में आए नौ सौ करोड़ रुपये, सड़कों से बटोरी शुद्ध चांदी

पटना. बिहार अक्सर किसी न किसी वजहों से सुर्खियों में रहता है. वही बिहार एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गया जब स्कूल में पढ़ने वाले कक्षा 6 के दो बच्चों के खातों में नौ सौ करोड़ रुपये आ गए

बिहार: स्कूल में पढ़ने वाले दो बच्चों के खातों में आए नौ सौ करोड़ रुपये, सड़कों से बटोरी शुद्ध चांदी

पटना. बिहार अक्सर किसी न किसी वजहों से सुर्खियों में रहता है. वही बिहार एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गया जब स्कूल में पढ़ने वाले कक्षा 6 के दो बच्चों के खातों में नौ सौ करोड़ रुपये आ गए। इसी के साथ एक व्यक्ति के खाते में साढ़े पांच लाख रुपये आ गए लेकिन जन बैंक ने उस व्यक्ति से पैसे वापस मांगे तो उस व्यक्ति ये यह कहते हुए पैसा देने से इंकार कर दिया की वह उसे मोदी जी ने दिया है मैं पैसा वापस नहीं करूँगा अंत में व्यक्ति के ऊपर बैंक को मुकदमा दर्ज करना पड़ा हालाकिं पैसा वापस मांगने से पहले बैंक ने व्यक्ति को एक माफीनामा पत्र भी लिखा था लेकिन व्यक्ति ने पैसा देना तो दूर उसे पैसों को बैंक की जानकारी के बैगैर ही खर्च कर दिया। वही खगड़िया में रहने वाले इस व्यक्ति की गिरफ्तारी कर ली है। 

बच्चों के खातों में आए नौ सौ करोड़ रुपये 

कटिहार के एक स्कूल के एक ही कक्षा के दो बच्चों के खाते में अचानक ही करोड़ों रुपये आ गए थे. दरअसल कटिहार जिले के आजमनगर के रहने वाले स्कूल के दो बच्चे बैठे बैठाए करोड़पति बन गए। दोनों बच्चे आशीष कुमार और गुरुचरण विश्वास के खाते में नौ सौ करोड़ रुपये आ गए। बता दे की इन बच्चों के खातों में स्कूल यूनिफार्म के पैसे आते है लेकिन अचानक इतने पैसे आते ही परिजनों के साथ साथ बैंक कर्मचारी भी घबरा गए फिलहाल दोनों के खातों के सीज कर दिया गया है और जानकारी जुटाई जा रही है की आखिर इतना पैसा कहा से आया। आजमनगर प्रखंड के ग्रामीणों का हाल यह है की अब बैंक के बाहर लम्बी लाइन लग गई है और अपने खातों की जाँच करने पहुंच रहे है की कही उनकी भी किस्मत का ताला तो नहीं खुल गया। 


जब हुई थी चांदी की बारिश 

ऐसे ही एक हैरान कर देने वाला  वाक्या साल २०१९ में तब हुआ जब बिहार के सीतामढ़ी में चांदी की बारिश हुई थी। जब सुबह लोग सोकर उठे तो देखा चांदी घरों के बाहर चांदी बिखरी पड़ी हुई है। सुरसंड के टावर चौक से बाराही गांव तक जाने वाली सड़क पर चांदी बिखरी पाई गई। लोग उसकी बूंदों को बटोरने लगे वही लोग सोचने लगे की आखिर इतनी शुद्ध चांदी आई कहा से लेकिन बाद में सामने आया की नेपाल बॉर्डर पास में है कोई तस्कर बोरी में चांदी ले जा रहा था और बोरी फट जाने से चांदी रस्ते में गिरती चली गई।