आयुर्वेद डॉक्टरों को मिली आपात स्थिति में एलौपैथिक दवाएं लिखने की मंजूरी IMA फैसले से ना खुश

सोमवार आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आयुष मंत्री हरक सिंह ने आयुर्वेदिक डॉक्टरों को आपात स्थिति में एलौपैथिक दवाएं लिखने की अनुमति

आयुर्वेद डॉक्टरों को मिली आपात स्थिति में एलौपैथिक दवाएं लिखने की मंजूरी IMA फैसले से ना खुश

सोमवार आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आयुष मंत्री हरक सिंह ने आयुर्वेदिक डॉक्टरों को आपात स्थिति में एलौपैथिक दवाएं लिखने की अनुमति दे दी है। वहीं इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ऋषिकेश, हरिद्वार, नैनीताल समेत चारधाम यात्रा रूटों पर गढ़वाल मंडल विकास निगम लिमिटेड (जीएमवीएन) के होटलों में पंचकर्म और योग केंद्र की स्थापना की जाएगी। 


फैसले को बताया गैर कानून 

हालाकिं मीडिया से बात करते हुए आयुष मंत्री ने बताया की "आयुर्वेदिक डॉक्टर्स लंबे समय से यह मांग कर रहे थे कि हिमाचल प्रदेश के अपने समकक्षों की तरह उन्हें भी एलौपैथिक दवाएं लिखने की मंजूरी दी जाए। जिसपर मंत्री ने दावा किया कि राज्य सरकार के फैसले के बाद स्वास्थ्य सेवाओं पर बड़ा असर दिखेगा लेकिन एलोपैथिक प्रैक्टिशनर्स की शीर्ष संस्था इंडियन मेडिकल काउंसिल राज्य सरकार के इस फैसले पर बिफर गई साथ राज्य सरकार के इस फैसले पर असहमति जताते हुए गैर कानूनी बता दिया। 


दुर्गम इलाकों में रहने वालों को होगा फायदा 

खासकर राज्य सरकार ने इस फैसले की मंजूरी उन ग्रामीणों के लिए दी है जो दुर्गम इलाकों में रहते है इससे ग्रामीणों को काफी फायदा होगा। क्योंकि इन इलाकों में एलोपैथिक डॉक्टरों की बेहद कमी है। आईएमए उत्तराखंड के प्रेसिडेंट डॉक्टर अरविंद शर्मा ने कहा कि ये फैसला अपने आप में विरोधाभासी है। अगर आयुर्वेदिक डॉक्टर भी एलौपैथिक दवाएं लिखेंगे तो एलौपैथिक पर सवाल क्यों उठाए जा रहे थे। आईएमए उत्तराखंड के जनरल सेक्रेटरी डॉक्टर अजय खन्ना ने कहा, "ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार कानूनों को लेकर जागरूक नहीं है। " उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का फैसला पूरी तरह गैरकानूनी है। 


मुख्यमंत्री ने जारी किए गए आदेश 

उत्तराखंड आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय में योग के डिप्लोमा पाठ्यक्रम डिग्री कोर्स को मंजूरी दी गई 

आयुर्वेदिक विश्व विद्यालय में योग और अन्य कार्यक्रमों के लिए ऑडिटोरियम की घोषणा

कोटद्वार के चरक डांडा में अंतरराष्ट्रीय आयुर्वैदिक शोध संस्थान के लिए आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय के डेवलपमेंट फंड से दस करोड़ की स्वीकृति 

प्रदेश के जिला मुख्यालयों में 25 बेड और तहसील लेवल पर 15 बेड के आयुर्वेदिक हॉस्पिटल खोलने की घोषणा

दूरदराज के क्षेत्रों में सौ योग और वैलनेस सेंटर बनाने की घोषणा, पहले चरण में 50 वैलनेस सेंटर बनाए जाएंगे

गुरुकुल कांगड़ी में हिंदुस्तान का पहला आयुर्वेदिक कैंसर संस्थान खोलने की घोषणा

केरल में पंचकर्म की तर्ज पर उत्तराखंड में मर्म चिकित्सा को चिकित्सा पद्धति के रूप में आगे बढ़ाएगी सरकार