विधानसभा सचिव मुकेश सिंघल को तत्काल प्रभाव से किया गया निलंबित

अब विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी ने इस मामले में बड़ा फैसला लिया है,विधानसभा सचिव मुकेश सिंघल को तत्काल प्रभाव से  निलंबित कर दिया गया है।

विधानसभा सचिव मुकेश सिंघल को तत्काल प्रभाव से  किया गया निलंबित

उत्तराखंड विधानसभा में बैकडोर से हुई भर्तियों के मामले पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने साफ कहा है कि जो भी भर्तियां नियम विरुद्ध हुई हैं, उनको निरस्त किया जाना चाहिए| साथ ही दोषियों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए| जैसे ही उन्हें उत्तराखंड विधानसभा बैकडोर भर्ती के बारे में पता चला था, उन्होंने तत्काल विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी ने इस मामले की जांच के लिए कहा था और दिशा में काम हो भी हो रहा है|


अब विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी ने इस मामले में बड़ा फैसला लिया है,विधानसभा सचिव मुकेश सिंघल को तत्काल प्रभाव से  निलंबित कर दिया गया है।विधानसभा में हुई  बैक डोर एंट्री पर विशेषज्ञ समिति से  रिपोर्ट प्राप्त हुई है। रिपोर्ट में ये साबित हुआ की भर्तियों के दौरान अनिमित्ताएं की गई थी।


अनुच्छेद 14 और 16 भर्ती के दौरान उल्लंघन किया गया था।नियम के विरुद्ध भर्तियां की गई थी जिन्हे निरस्त कर दिया गया।जिसमे 2016 तक की 150 भर्तियां  निरस्त होंगी।2020 में हुई  6 भर्तियां होंगी निरस्त। 2021 में 72 भर्तियां होंगी निरस्त। उपनल के माध्यम से की गई 32 भर्तियां भी होंगी निरस्त।